Feeds:
पोस्ट
टिप्पणियाँ

27503471_10211349394032221_2285180956122927314_o

“KavitAputrikAjAtiH” (कवितापुत्रिकाजातिः) has been blessed by Shatavadhani Ganesh Kavi‘s magnificent introduction- “Asti Kashcid VAgarthaH (अस्ति कश्चिद् वागर्थः)”. My sincere thanks to Shatavadhani. He has always been an inspiration to me. This introduction itself is an exquisite model of Sanskrit prose writing.

 

                                        अस्ति कश्चिद् वागर्थः

maxresdefault

सम्प्रति संस्कृतवाचि काव्यकरणं नाम प्रभूतप्रतिभावतामपि किञ्चिदिव भयावहमिति मे प्रतिभाति। यतस्तत्र सन्ति नैके साहित्यनिर्माणकर्मीणताजिहीर्षायै बद्धपरिकराः प्रतिरोधबिन्दवः। नवकाव्यप्रकाशन-पुस्तकविक्रय-जीविकादीनां साक्षात्साहित्यनिर्मितिबाह्यानां वास्तवानां सङ्गतिं विहाय केवलं काव्यरचनाप्रक्रियामेव पश्यामश्चेदस्मदियं जिज्ञासा संक्षिप्ता सूच्यग्रा च भवतीति हेतुना तावन्मात्रं विवक्षुरस्मि। तदर्हन्ति सन्तः श्रवणानुग्रहेण सभाजयितुमिमं जनम्।

संस्कृतवाण्यां प्रायेण जागर्ति किल न्यूनातिन्यूनं पञ्चसहस्राधिकसंवत्सराणां काव्यनिर्माणपरम्परा। अपि च नूनमियमविच्छिन्ना, अनर्गला, अपारा, आढ्या च। विशिष्य प्रतिभा-व्युत्पत्ति-परिश्रमपरिप्लुतानां महाभिजात्यजेगीयमानानां पूर्वसूरीणां पुरः केनापि साम्प्रतिकेन कविना स्वात्मानं निभालयितुमतिमात्रं कष्टमिति स्वानुभवोsपि भणति सोङ्कारम्। प्रायशः शब्दार्थरूपणे यत्किमपि वक्तुं शक्यं तत्सर्वमिह तैरपूर्वरीत्या सुरुचिरं सुनिपुणं च गदितमिति मन्यते यः कश्चिदपि विपश्चित्। अतो हि वार्तमानिकसंस्कृतसाहित्यलोके सप्रयत्नं प्रतिभाशोभितेन प्रेक्षावता यदुत्तममपि निर्मीयते तन्मध्यममेवेति विमर्शकैस्सदैव निगद्यते। हन्त! कदाचिद्दैवदुर्विपाकवशादिव तदधममित्यपि विमर्शकजगति विपद्येत!
अन्यदपि खलु वर्तते वैधुर्यं यत्पूर्वसूरिसहस्रव्याहारवरूथयातायातक्षुण्णवर्त्मतया संस्कृतसाहित्यक्षेत्रे निर्बीजमपि वप्तुं शक्यं येन सुमहत्तरप्रशस्तिप्रख्यातिसम्पत्तिसाधनभूतं काव्यसस्यसंवर्धनं सुकरतरमिति। पूर्वाभिप्रायस्तु सामान्यतया संस्कृतज्ञानां भवति, परः प्रायेण संस्कृतेतरविदुषामिव गच्छति। किञ्च प्रामाणिकः संस्कृतकविरुभयथा विनश्यत्येव।
एवं सत्यां परिस्थित्यां साम्प्रतिकसंस्कृतकाव्यरिरचिषवः पूर्वोक्तप्रकारनैर्घृण्यद्वैविध्यं परिहर्तुमिव सदैव समाश्रयन्ते किल नावीन्याभासभूतानि कानि कान्यपि दुश्चेष्टितानि येन पूर्वसूरियोगदानमपि ह्रसति, अविमृश्यकारितापि च हसति। सङ्ख्यया केवलमल्पीयांस एव सुकवयः प्रमादैरेतैरस्पृष्टा इव, अजिता इव, अनभिभूता इव, अनाक्रान्ता इव च सारस्वतसिद्धिमुपयान्ति। तादृशेषु खल्वन्यतमस्तत्रभवान् मम कविमित्रं कविकुलमित्रं काव्यकञ्जातमित्रोsपि च श्रीबलरामशुक्लमहोदयः।

Shubhashansa-1

अस्मदालङ्कारिकैः काव्यनिर्मितौ यानि यानि तत्त्वान्यपेक्षितानीति समुदाहारन्ति तानि बहून्यपि समाविष्टान्यस्मिन् सुकवाविति निश्चप्रचम्। यदाह तत्रभवान् यायावरीयः काव्यमीमांसायां बलरामः सहजकविः, निसर्गत एव कविः। यद्यपि तस्य व्युत्पत्त्यभ्यासौ सुतरां श्लाघ्यावप्यानुषङ्गिणावेति मे प्रतिभाति। स्वभावेन च हृद्योsसौ कविवर्यो व्यासदासीयस्य कविकण्ठाभरणस्य मार्गमनेकत्रानुधावतीति प्रमोदस्थानमस्माकम्। वयसा नवयौवनमूर्तिरसावात्मनः प्रारम्भिकेष्वेव प्रयत्नेषु वागर्थदृशा कमपि कम्रं प्रौढिमानं प्रथयतीति च रसिकप्रत्ययकारिणी कुशलवार्ता।
सम्प्रति शुक्लाभिजनो बलरामः कविः स्वीयकवितासङ्ग्रहेऽस्मिन् बहुविधवाग्विलसितानां सौन्दर्यदर्शकश्चकास्ति। एते विच्छित्तिविशेषाः काव्यस्यास्य रूप-स्वरूपस्तरयोः स्वारस्यं बहुधा वर्धयन्तीति नास्ति संशीतिलेशः। स्वरूपस्तरे बलरामः कवितारेवतीकटाक्षपेशलं शृङ्गारं, स्ववासोविशदं भक्तिभावं तथा निजाभिमतनावीन्यमदिराकोकनदं पारसीकविद्यावरिवस्यां च समाद्रियते। रूपस्तरे तु मुनित्रयानुमतपदशुद्धिः, उपमा-रूपक-विरोध-व्याज-प्रास-यमकाद्यलङ्कारसम्बुद्धिः, सरल-विकट-प्रसिद्ध-व्युत्पाद्यवृत्तानां गतिसिद्धिश्चेति नैके गुणाः कवितास्वत्र त्वहमहमिकया परापतन्ति। एतेषां पल्लवग्राहिकपरामर्शोऽपि नात्र किलावकाशकार्पण्यतया शक्य इति वास्तवम्। क्व वा कृत्स्नस्यापि काव्यस्यास्य परिचयं कारयामीति दूराधिरोहिणी मम धिषणाकाङ्क्षा? तथापि चेतश्चमत्कारविधायिनीनां कतिपयकवितानां संस्मृत्या समाप्तप्रायभूरिभोजनः कश्चनान्नरसिकस्तु यथा निजकरलेहनेन परमामपि तुष्टिमनुभवति तथा कामपि रोमन्थरामणीयतां कलयामि।
सकृद्दर्शनेनैव बलरामकवितासु वृत्तवैविद्ध्यं मनो हरतितराम्। श्लोक-उपजाति-रथोद्धता-स्वागत-स्रग्विणी-वंशस्थ-द्रुतविलम्बित-मञ्जुभाषिणी-प्रहर्षिणी-वसन्ततिलक-मालिनी-हरिणी-शिखरिणी-मन्दाक्रान्ता-पृथ्वी-शार्दूलविक्रीडित-वियोगिनी-औपच्छन्दसिक-पुष्पिताग्र-आर्यादीनां सुप्रसिद्धसम-अर्धसम-वर्णवृत्त-मात्राजातीनां विनियोगे यथा हि लीलायते बलरामभारती तथैव विद्युन्माला-प्रमिताक्षर-कोकिलक(नर्कुटक)-हरनर्तन(मल्लिकामाला)-वनमञ्जरीत्यादीनां श्रुतिसुभगानामप्यनतिप्रसिद्धानां वृत्तानामतिवेलमनोहरनिर्वाहे धूर्वहा दुर्ललितविस्रम्भा विभातीति नात्र संशीतिलेशः। केवलं द्वित्रिवारमनाङ्मात्रस्खालित्यलेशं विहाय समग्रे काव्यसङ्कलनेऽस्मिन्न क्वाप्यनेन घनविदुषा वृत्तविलासलक्ष्मीमुषा सत्काव्यसौन्दर्यपुषा छन्दस्स्यन्दनचालने क्लेशः कल्पितः। न क्वापि व्यर्थपदानां पादपूरणमात्रसार्थकनिपातानां कृतकपदवयनप्रयासानां चुञ्चूप्रवेशः कविनानेन कारितः। यतो हि सरसकाव्येषु व्याकरणविरुद्धप्रयोगापेक्षया व्यर्थाधिकपदानामेव प्राचुर्यं सहृदयहृदयोद्वेजकमिति तत्रभवन्तः सङ्गीत-साहित्यसव्यसाचित्वेन विश्रुता राळ्लपल्लि अनन्तकृष्णशर्मसदृक्षा कविकर्मदक्षा आहुः। एतादृशदोषाः प्रायेण पिङ्गलागमकदर्थितानां वृत्तनिर्वाहप्रयासे परिपतन्तीति पद्यशिल्पवेदिनः सर्वे जानीयुः। परमयमसौ बलरामः सदैव सुन्दरच्छन्दोगतिगोविन्दसङ्गमङ्गलः काव्यकेदारेषु निजलेखनीलाङ्गलं ललितललितमेव कलयतीति शासितप्रायमेव। ईदृगधिकारस्तु बहुषु साम्प्रतिकलेखकेषु न दृश्यत इति वाग्वधूटीग्लानिकरी वार्ता।
बलरामवर्यस्य काव्यं सहजालङ्कारनिर्भरम्। प्रायेण प्रतिपद्यमपि केनापि स्फुटेन वास्फुटेन शब्दार्थालङ्कारेण सनाथीकृतमित्यत्र नातिशयोक्तिः। केवलं शृङ्गग्राहिकया रीत्या कथयामश्चेत्तत्र तत्र, यथा सहोक्तिच्छाया (प्रायेण “न केवलं कृष्ण” इति कविताया आद्यन्तं), परिकरालङ्कारस्पर्शपैशल्यं (“अनन्वयः”), मुद्रालङ्कारमेदुरता (“संस्कृतविता”), रूपकरामणीयता (प्रायेण “अधिकाव्यम्”,”विभिन्नम्”, “शृङ्गारसारः” इत्यादिषु बहुत्र), श्लेषशालीनता (“सुश्लोकसङ्ग्रहः”) अहंपूर्विकया मनःपथमवतरन्ति। एवमेव “गण्डवेषस्तु पौगण्डवेषे तव” (कामाश्रवः), “चीत्करोति पतितोsवनौ शिशुश्चेत् करोति जननी किम्” (अम्बिकाशिशुः), “मधुरिमधुरि तिष्ठत्”, “शर्करां कर्कशाभिः” (मधुरमधुरयुग्मम्), “भणितिमणीनणीयसि” (नवकवित्वमयी वसतिः), “तव केशवेशवशतो विशदे जनिता निशा मम निशाततरा” (अरविन्दकाननसुगन्धि), “शुद्धान्तरङ्गनिरतः….. शुद्धान्तरङ्गविरतो….” (सुश्लोकसङ्ग्रहः) इत्यादिषु बहुस्थलेषु प्रासानुप्रासयमकादीनां नूनमक्लिष्टयोजनं दरीदृश्यते। किमधिकम्? दिवसेष्वेतेषु रच्यमान-प्रकाश्यमानबहुकवितानां निरलङ्कारत्वफालन्तपतपनतापेन तप्तानां मादृशां मन्दभाग्यानां शिशिरीकरणाय किमयं कविकुमुदबन्धुरुदियायेति मे प्रतिभाति।
बलरामकवेर्वाचि पणिनापत्यपौरोहित्यसंस्कृता संस्कृतवाणी कामपि सुषमां तत्र तत्र लौकिकन्याय-प्रौढप्रयोग-वाचोयुक्तीत्यादिरूपेण हृदयहारिणीं दिव्यदोहदलीलां वितनोति येन विद्वद्रसिकहृदयारामद्रुमाः सद्यः प्रफुल्लन्ति। “अक्के चेन्मधु लभते”, “प्रत्येतुमीष्टे”, “चुचुम्बिषामि”, मिमृक्षामि”, “वैरहम्”, “कौक्कुरी”, “तीर्थध्वांक्षः” इत्यादयो नैकसङ्ख्याकाः। चुलुकीकृतपातञ्जलोपज्ञोऽप्ययं कविर्न कदापि सरसकाव्यकर्मापेक्षया विद्वदौषधनिर्माणव्यसनितां प्रकटयतीति रसिकलोकसौभाग्यम्। केवलं तस्य वाररुचपाण्डित्यं रसवत्कवितासीतासौविदल्लत्वमेव समालम्बते न तु तत्केशग्रहलम्पटपङ्क्तिकण्ठत्वम्। अत एव तेन “यणादिरिव योऽन्तस्थः स्वरादिरिव चाव्ययः”, “यं न पश्यति पश्यन्ती मध्यमा वापि मध्यमा। तत्परापि परं वक्तुं वैखरीं…..”, तिलं प्रवेशो न तिलोत्तमायाः रम्भा न जृम्भामपि सङ्गतासीत् धृता घृताच्यां न धृतिश्च किञ्चित् चित्ते ममास्मिंस्त्वयि गाहमाने”, “शौरिसूर्य मुखेन्दुस्ते…” इत्यादीनि पद्यरत्नान्येव निष्पादितानि न तूपलशकलानि। एवमेव पैङ्गलमङ्गलोऽयं कविरनर्घमर्घमेव कल्पयति भारतीवरिवस्यार्थं निजदुहितृदुर्लालित्यव्याजेन यथा : “मो मो गो गोऽस्पष्टां वाचं वारं वारं सोत्का सोक्त्वा मातुः क्रोडे दन्तैर्हीनैर्हासैरुक्ता विद्युन्माला”। इदं तु नूनं प्रतिभापाण्डित्ययोरनायिदाम्पत्यपथ्यफलमपत्यमिति मे प्रतिभाति। तदिदं स्वर्गीयकविपरिवृढस्य भास्कराचार्यत्रिपाठिनो मृत्कूटे वार्धकवर्णनावसरे विनियुक्तानां वातोर्मि-मन्दाक्रान्तादीनां वृत्तमुद्राणां पथि प्रस्थितमितोsपि कमनीयं कल्पनं, शैशवशशिरेखालेखनखटिकायितशिल्पनमिति निरल्पं ब्रूमः। अत्र न केवलं विद्युन्मालावृत्तं सलक्षणं लक्षितं किन्तु प्रातिभी या कापि विद्युन्मालैव रक्षिता, उत्प्रेक्षिता च।

Shubhashansa-2

सुकविरसावप्यहमिव श्रीकृष्णचरणचारणचञ्चरीक इति मोमुदीति मच्चेतः। अत एवात्र नैकाः कवितास्तु बलरामानुजवाल्लभ्यमनुधावन्ति। मधुरभक्तिभास्वराणि नैकानि पद्यप्रसूनानि सन्तीह वर्णविन्यास-रचनारास-रसविलासादिगुणगण्यानि। “न केवलं कृष्ण”, “जागर्तु कृष्ण”, “मत्तमयूरम्” चेत्यादीनि काव्यानि साक्षित्वेनास्य खलु विलसन्ति।
“प्रेमार्के तपति निरन्तरं ममोर्ध्वं का सन्ध्या दिननिशयोर्यदा न भेदः” इति व्याहरता कविनानेन मृता मोहमयी माता जातो बोधमयः सुतः। सूतकद्वयसम्प्राप्तौ कथं सन्ध्यामुपास्मह इति निगदन्ती मैत्रेय्युपनिषदेव स्मारिता। ” योsक्षीणि शिक्षयति वृष्टिनिरन्तरत्वं रागं च योsप्यधरयोरधरीकरोति। जागर्तु कृष्ण मयि ते स वियोगवह्निः”, “तव रागपरागरूषिता मम केशा विलसन्तु केशव। अथवा विधवाजटाजडा रजसा ते मलिना दरिद्रतु॥” इत्यादिषु पङ्क्तिषु नूनमेकादशभक्तिसोपानेष्वन्यतमा ह्यत्यन्तविरहासक्तिरेव जागर्तीति मन्मतिः। न केवलं कविरसौ कल्पितद्वैतभावनया स्तौति कैतवयादवं, निश्चिताद्वैतानुभूत्यापि नौति परमार्थपरमात्मानम्। यथा :
“आत्मभिन्नधिया कृष्ण यास्तुभ्यं नतयः कृताः ता ह्रेपयन्ति मां ताभ्योऽहमात्मानं क्षमापये”
एतदेतदतिवेलमुज्ज्वलं सत्कवित्वकलोपनिषत्कल्पमिति सूचयित्वा वयमग्रे यामः।

यथा देवे देवदेवे तथा मातरि जगन्मातरि च बलरामस्य भक्तिरुत्कटा, प्रस्फुटा च। तामिमां भावनामेव पुरस्कृत्य कथमसौ विनूतनविच्छित्तिं साधयति नवजीवनवर्मणो नितरामुच्चावचानि, नतोन्नतानि, विसंष्ठुलानि मानुषचापलवर्तनानीति द्योतयितुं तावदिदं पश्यन्तु पद्यम् :

वयं तदिह बालका यदपि मातुरङ्के स्थिताः
समुच्चकुचनिर्गलत्सरसदुग्धसारप्लुते।
तथापि कृमिकच्चरे घृणितपूतिकीलालके
मनो हरति सन्ततं क्वचन कर्दमे क्रीडितुम्॥ (“कदाचिदपि”)
कविरसौ नितरां भक्तिरक्तिमयो हृदि। यथा देवे, देशे, वाचि, विद्यायां भक्तिस्तथा रक्तिरप्यस्य क्वचित्कवितायां क्वचित्कामिन्यां क्वचिज्जगत्यां च विविधरसपारिवेषगूहिता गाहिता च निजाभिव्यक्तिं प्रकटयति। सत्यमेव तीव्रैरपि कोमलैरिव भावैर्विना कश्चिदपि न कविर्भवति। काम-मन्युभ्यां (जीवन-मृत्युभ्यामिति तात्पर्यं) खलु जगदिदं शासितमित्यार्षेयं दर्शनम्। एतयोरामूलचूलशोधनेन विना न किञ्चिदपि गुण-गात्रगण्यं तत्त्वं जगति सिद्ध्यति। अस्य तत्त्वस्य नैजानुभूतिं निस्सामान्यवक्रोक्तिपथे निदर्शयन्नेव सारस्वतसार्थवाहः कोऽपि कवितल्लजतामुपैति। पाश्चात्त्या अप्येतदामनन्ति। इदमेव बलरामवर्येsपि जीवातुभूतमिव चकास्ति। नो चेत्कथमिव तस्मिन्नीदृशी भावनिर्भरता? ईदृशी जीवनोन्मुखिता? अत एव कविनानेन जाज्वल्यमानानि नैकानि वाक्यानि नैकानि पद्यानि च शिशिराग्निशिखातलिकाभिरिव लिखितानि सहृदयहृदयचीनांशुकेषु। यथा :
“प्रेमाग्निं फलितमतः सहस्रकीलैः संहर्तुं नयनजलैर्न पारयामः” (काम आततायी)

“कौमुदीकलितयामिनीषु किं लब्धमस्ति वद दीर्घजागरैः
क्वार्जुनं वपुरपूर्वसौभगं मन्दचन्दिरगतं क्व पाण्डवम्” (अनन्वयः)
“त्वयोह्यमानो विपथे विसंष्ठुले स्वनायकानामिव दन्तुरान्तरे
विचारयेऽहं तव दुःखदुःखितं त्वमास्व यानेsथ वहाम्यतःपरम्” (त्रिचक्रिकाचालकः)
कवेर्मातृभाषा तु हिन्दीति सुविदितम्। तत्साहित्ये रीतिवाद-च्छायावादाख्यौ काव्यमार्गौ विश्रुतावेव। बलरामवर्यस्य काव्यकौशलयात्रा तु मार्गद्वयमिदमपि गाहते, समुचितसिद्धिमधिशेते च। तथापि तादृशः प्रौढकविः शिशुगीतसरलं निसर्गसहजं च ललितललितं किमपि कवयति यत्तु व्यक्तवर्णरमणीयमपि, सनिमित्तहासहैतुकमपि विदुषां श्रवणेन्द्रियधन्यतां प्रापयति यथा :
“वर्णे वर्णे गौरी गौरी केशे केशे श्यामा श्यामा । कोपे कोपे मिथ्या मिथ्या हासे हासे विद्युन्माला”
अत्र पदं नैकमपि वर्णद्वयमतिक्रामति, नैकोsपि शब्दो नैघण्टुकश्च। न वात्र विद्यते कश्चनान्वयक्लेशः। तथापि प्रेक्षावतामक्लिष्टश्लिष्टार्थद्योतकमिदं पद्यं द्राक्षापाकसङ्काशं सर्वेषामपि समास्वाद्यम्। एतदेकं हि काव्ययोगिनोऽस्य साहितीसुषुम्नाजागरणनिदर्शनमुदाहरणमित्यलम्।
अस्मिन् कवितासङ्ग्रहे पारसीकमूलानां काव्यखण्डानां संस्कृतच्छायारूपेण कतिपयपद्यानि विलसन्ति। कविताष्टकमिदं प्रायेण विवेच्यमुभयभाषाधुरीणैः। नास्माभिरुपमातुमलमस्य माहात्म्यं यतो हि रस-भावध्वनीनां निगीर्णमर्यादा या काचिदत्र गूढगूढा वर्तते तत्र तत्तसमयिन एवाधिकारिण आस्वादने विमर्शने च। तथापीदं वच्मो वयमस्मिन् काचिरोचिष्मती(Rose इत्याङ्लवाचि)रोचिरास्ते यद्विज्ञानकाठिन्यकण्टकानां परिहरणे न वयं वराकाः समर्थाः।
बलरामशुक्लमहाभागं सुकविलोके प्रतिष्ठापयितुमलमेका हि कविता “वयं केsपि कवयः”। अत्र वागर्थ–विद्यानवद्या प्राप्तसाहित्यसाम्राज्यसिंहासनमहाभिषेका, सुकुमारसुन्दराभिजातकाव्यशैलीशुक्लातपत्रतले निषण्णा निर्विषण्णा, शब्दार्थालङ्कारचामरद्वयवीजिता, अजिता हिता च रसिकलोकस्य जेगीयत एव। केवलमस्य काव्यखण्डस्य परिष्कारपारम्यं सूचयितुमत्र विहिता शिखरिणी कथमिव निर्वाहदुर्वहा खण्डितेव प्रगल्भनायिका कविनायकं दक्षिणं धिक्कुरुत इति स्मारयित्वा तिरोहितस्स्याम्। आचार्यश्रीशङ्करभगवत्पादस्य, पण्डितराजश्रीजगन्नाथस्य, मूककवेश्च पद्यविद्यापैशल्यमत्र प्रतिपादं प्रतिपदं प्रत्यक्षरं च विद्योतते। समग्रा कवितेयमत्र व्याख्यातुमर्हत्युद्धरणम्। किञ्च ग्रन्थगौरवभिया न तदाद्रियते। किमधिकम्? मृगमदामोदमेदुरं पारिजातप्रसूनमसृणं काव्यमिदं विवरीतुमन्यदेव प्रबन्धनमवश्यमित्युक्त्वा विरमामि।
क्वचिदस्माकं कविरयं क्षेमेन्द्र इव समाजवैपरीत्यचिकित्सकश्चकास्ति यथा :
इन्द्रियदूषणकर्मणि विरमति रसना न शिष्यवर्गेऽस्य।
संयममाचार्यस्य तु सा गृहदासी विजानाति॥ (विभिन्नम्)
अत्र गाहासत्तसईकारोsपि स्मृतिपथमवतरति। किञ्च स्वयं छात्रवत्सलाचार्यत्वेन विश्रुतः कविरेव पठत्यार्यामिमामिति समुत्तेजितस्वारस्यभूमिरस्याः।
क्वचिद्भर्तृहरिरिव पुष्पबाणविलासकार इव च वा किमपि शार्दूलविक्रीडितं निबध्नाति यथा “केनापूरि तवाधरेsमृतरसः…….” इत्यादि। किन्त्वत्रापि सुकविर्नानुकुरुते बिम्बप्रतिबिम्बवत्।
पूर्वसूरिपद्येषु शृङ्गारस्य प्राचुर्यं; परमपूर्वकवेरस्य कवित्वे भक्तिभावप्राबल्यम्। तस्मादिदं स्वीकृतिर्न तु हरणम्। नेदं केवलं स्वीकरणं वा ह्रस्वीकरणं; परं रसीकरणं स्वरसीकरणमिति च मन्मतिः।

Shubhashansa-3

यद्यपि काव्यमिदं आन्तं मधुरमधुरं तथापि चरमभागे निबद्धानि पद्यानि सर्वाण्यानुष्टुभानि मधुरतराणि, न हि न हि, मधुरतमानि वासुदेवबलरामस्य हलादि-मुसलान्तकृषिकर्मण इव शुक्लाभिजनस्य बलरामस्य काव्यकृषेः परमफलभूतानि सन्ति, हसन्ति, विकसन्ति, विलसन्तीति नास्ति मे कापि विचिकित्सा। अत्र कवेरस्य चाटूक्तिचातुरी, लोकशीलनशेमुषी, निबिडबन्धबन्धुरता, सूच्यार्थसमीचीनता, वक्रताव्यापारपारम्यं, ध्वनिधौरन्धर्यं चेति नानाप्रकाराः सत्कविमात्रगोचराः सुगुणा गौरीशङ्करशिखरायन्ते। व्याख्यानिरपेक्षमेव सुबोद्ध्यानि स्वच्छगोस्तनीगुच्छसनाभीनि पद्यान्येतानि सर्वाण्यपि समुल्लेखार्हाण्यपि स्थलाभावदूषितोऽहं कानिचन मात्रमत्र निवेद्य नमस्सुमाञ्जलिपुरस्सरमिमं पूर्वरङ्गप्रख्यप्रस्तावं समापयामि।
कवयः प्रायेण स्वकाव्यमधिकृत्य, विशिष्य स्वकाव्यस्फूर्तिसुन्दरीं चाधिकृत्य वक्तुं स्वयमिव शेषायन्ते। परन्तु वरकवय एव तदुभयसुषमासौभाग्यं व्यञ्जयत्काव्यं वितन्वते। तदत्र भूयसा द्रष्टुमलम्। पश्यत पश्यतास्मिन् दृष्टान्तनावीन्यमौचित्यञ्च। कथमिव प्रथमरसस्य सिद्धिरुत्प्रेक्षिता वक्रवाग्वर्त्मनेति सङ्ख्यावतामपरोक्षमेव। तथा चात्र भाषासारल्यसौन्दर्ययोः स्पर्धावर्धितस्वारस्यमपि प्रेक्षणीयमविस्मार्यम्।

कविता क्रियते नैव जातु सा तु प्रतीक्ष्यते।
नियोज्या जायते नैव प्रतिपाल्या प्रिया गतिः॥
मदीयकाव्यरत्नानां उद्भासप्रतिभूरियम्।
शाणपाषाणयुगली त्वत्कपोलस्य भासताम्॥ (अधिकाव्यम्)
विनोदे च प्रबोधे च सुभाषितमयी वाणी बलरामस्य भासते। अत्र क्वचित्पदचमत्कृतिः, क्वचिदौपम्यचमत्कृतिः, क्वचिल्लोकपरिज्ञानगाम्भीर्यं, क्वचिद्दार्शनिकदीप्तिमत्त्वं, क्वचित्समार्द्रविश्वमैत्रीमौखर्यं, क्वचिदमोघमार्मिकता, क्वचिदुद्दामधीमाहात्म्यं चेति नैकस्तवनीयांशा विराजन्ते। हन्त! कस्मादिव खलु विद्याकरेण, वल्लभदेवेन, श्रीधरदासेन, सायणार्येण, जल्हणेन वा नालोकि स्वस्वसुभाषितसङ्कलनकर्मसु प्रतिनवसूक्तिमुक्ताफलानामसौ शुक्तिसम्पुटीति चेखिद्यते चेतः,रोरुद्यते हृदयम्। विदांकुर्वन्तु कृपया काश्चन सूक्तिकाञ्चनकिङ्किणीः, याः किल प्रेम्णा पादयोः करोति पङ्कजासनदयिता।

Shubhashansa-4

अहं च मम पुत्री च ग्रन्थानां रसिकावुभौ।
यथा मे पठने प्रीतिस्तथास्याः पाटने रुचिः॥
कार्तिके सप्तपर्णानां सुगन्धैः सायमूह्यते।
गजेन्द्रशालाsनङ्गस्य विशृंखलिततां गता॥
संस्कृतं पारसीकं च वाग्देव्या नयनद्वयम्।
धन्योsहमुभयेनापि सानुकम्पं कटाक्षितः॥

उपमा कालिदासस्य त्रिलोक्यां नैव विद्यते।
अस्मिन्नाभाणके कुत्र वदतास्त्यर्थगौरवम्॥
स्पर्शमात्रफला ग्रन्थाः समयाभावतोऽधुना।
पुत्रवन्नेत्रहीनस्य सन्तीत्येव सुखं मम॥
सुतेनाचिरसूतेन क्षेत्रे ग्रामवधूरसौ।
राज्ञीव राजप्रासादे युवराजेन राजति॥
व्युत्पत्ताविष्यते यत्नः कामं शक्तिर्निसर्गजा।
यथा प्रेम्णि प्रकृतिजे यतनं रतिकर्मणि॥
सस्पृहं वीक्षितौ सर्वैरलब्धमधुराकृती।
शब्दार्थौ सत्कवेरुच्चैः कुलस्त्रीणां कुचाविव॥
यदा स्फुरति सा रात्रिर्मद्यौवनसखी सखी।
निजस्त्रीगमनं तर्हि परस्त्रीगमनायते॥
स्मितेषु सूत्रतुल्येषु सारवत्स्वल्पकेषु ते।
भष्यायन्ते विकल्पा मे चिरोहापोहपूरिताः॥

कथमिव परश्शतानां पद्यपद्मानां खल्वीदृशानां स्वमनस्तृप्तिपर्यन्तं व्याख्यातुं प्रभवेम? यदि शक्यं, तथापि नैतेषां सौरभं, सौकुमार्यं वर्णवैभवं, मरन्दमाधुर्यं तत्परिवेषभूतेन जीवनापराभिधानेनापि जलेन (जडेन) निपुणं निरूपयितुं शक्यम्। केवलं सहृदयश्रीहरिरेव पद्मानुरागं पद्यपद्मानुरागं च विजानाति। स जानाति च निजकरसात्कर्तुम्। अतोsहं सर्वैरपि विद्वद्रसिकैः काव्यमिदं बलरामोपज्ञं श्राव्यं सेव्यमिति निवेद्य प्रस्तावनामिमां कथञ्चित्समाप्य सामाजिको भवामि। जीयाद्बलरामभारती।

– शतावधानी आर॰ गणेशः

 Shubhashansa-5
Advertisements

Sanskrit Grammatical Tradition of the Jainas

A paper dealing with 1500 years long tradition of formulating grammatical rules by the Jain scholars, titled “जैन संस्कृत व्याकरण परम्परा” has been published in Sambodhi (Indological Research Journal of LDII) XL volume. Almost all the Jain grammarians with their special features with an account of general characteristics of Jain Sanskrit Grammar,have been discussed here. The paper in PDF can be seen or downloaded from the following link-
https://www.academia.edu/…/Sanskrit_Grammatical_Tradition_o…

The text of the paper is given bellow-

 

2-Scan.312540

 

 

कुछ पाश्चात्त्य शोधकर्ताओं ने संस्कृत के प्रति जैन विद्वानों के दो प्रकार के दृष्टिकोणों को रेखांकित किया है। उनके अनुसार जैन विद्वानों के दृष्टिकोण की यह विभिन्नता संस्कृत के दो प्रकार के उपयोगों पर आधारित है। संस्कृत के जिस स्वरूप के द्वारा प्राचीन व्यवस्था में जैनों के लिये अस्वीकार्य हिंसा आदि दूषित कृत्यों का तथाकथित उपोद्बलन किया जाता था, संस्कृत के उस कर्मकाण्डीय स्वरूप के प्रति जैनों की स्वाभाविक अरुचि दिखायी पड़ती है। इसलिये स्पष्ट दिखायी पड़ता है कि धार्मिक कर्मकाण्डों के लिये जैन मत में प्राकृत भाषा को ही प्राथमिकता दी जाती रही। इसके विपरीत संस्कृत के अन्य (पन्थनिरपेक्ष) स्वरूप को जैन विद्वानों ने अत्यन्त उत्साहपूर्वक स्वीकार किया। संस्कृत का यह स्वरूप प्राचीन भारत में शास्त्रों तथा साहित्यिक विधाओं के लिए सर्वप्रयुक्त उपकरण बन गया था। संस्कृत भाषा को ग्रहण किया जाना अपने सिद्धान्तों को विद्वद्वर्ग में स्थापित करने तथा अधिकाधिक पाठकों तक अपनी साहित्यिक कृतियों के प्रसार के लिये अनिवार्य सा हो गया था। इन कारणों से जैन विद्वानों ने संस्कृत के अध्ययन तथा उसके लिए विविध प्रविधियों के अन्वेषण की ओर रुचि प्रदर्शित की। यद्यपि कई उदाहरण ऐसे भी मिलते हैं जिनसे प्रतीत होता है कि जैनों ने संस्कृत शास्त्रों की रचना वैदिक विद्वानों से प्रतिस्पर्धावश की लेकिन यह प्रयोजन निश्चित रूप से बहुत ही गौण रहा। संस्कृत भाषा के साहित्यिक एवं शास्त्रीय स्वरूप के परिग्रह तथा उपयोग से जैनों को अपनी साम्प्रदायिक मान्यताओं की क्षति की आशङ्का नहीं थी। इस उपयोग से जैन विद्वानों ने संस्कृत के धार्मिकेतर साहित्य को पर्याप्त समृद्ध किया तथा स्वयं भी संस्कृत की सहायता से अपने सिद्धान्तों तथा अन्यान्य रचनाओं को सुदृढ भूमि प्रदान की, जिसके कारण इन्हें व्यापक प्रचार मिल सका। इस पारस्परिक उपकार्य–उपकारक भाव ने भारतीय वाङ्मय को सुसमृद्ध किया। जैनों द्वारा परिवर्धित विशाल संस्कृत वाङ्मय में उनका व्याकरण शास्त्रीय लेखन भी अन्यतम है।

जैन संस्कृत वैयाकरणों पर विचार करते हुए सर्वप्रथम प्रश्न यह उठता है कि जैन विद्वानों का संस्कृत व्याकरणों के प्रणयन के पीछे क्या उद्देश्य था। पश्चिमी विद्वानों ने अपनी विभाजक दृष्टि का उपयोग करते हुए यह निर्णय दिया है कि पाणिनीय व्याकरण तथा उसकी व्याख्याएँ ब्राह्मणवाद से अतिप्रभावित होकर उसकी समर्थक हो गयी थीं। उनसे स्वाभाविक रूप से ब्राह्मणवाद का पोषण हो रहा था। जैन विद्वानों ने इसे अपनी साम्प्रदायिक भावना के लिये असुरक्षित पाते हुए नवीन व्याकरणों का प्रणयन प्रारम्भ किया(देखें–Dundas 1996)

“….The normative grammar of the Sanskrit by Pāņini and in particular its immensely authoritative commentary by Patanjali had become so closely associated with Jainism’s ideological opponents, the Brāhmaņa ritualists, to be readily accepted as a source of correct linguistic usage. As a result, various types of Sanskrit Grammatical analysis were introduced and by Jain monastic scholars as substitute for or equivalent to the Pāņiniyan System….”

उपर्युक्त प्रकार का निर्णय ले लेना बहुत सुविधाजनक तथा तार्किक लग सकता है। परन्तु इसमें एक बड़ा दोष यह है कि यह मत भाषा के स्वाभाविक प्रवाह की अनदेखी करता है। लोक में भाषा अथवा भाषिक समाज में परिवर्तन होने के साथ ही नयी–नयी शिक्षण पद्धतियों के अनुसार नवीन व्याकरणों की आवश्यकता स्वाभावतः अनुभूत होती है। उस परिवर्तित काल विशेष के वैयाकरण अथवा भाषाविद् इस आवश्यकता के प्रति जागरूक रहते हैं। वे समकालीन जनता की बुद्धि तथा उसकी धारणा शक्ति के अनुरूप नवीन व्याकरणों का प्रणयन करते हैं। जैन व्याकरणों के सूक्ष्म अध्ययन से यह बात प्रकट होकर सामने आती है कि जैन व्याकरण वाङ्मय केवल ईर्ष्या अथवा प्रतिस्पर्धा मात्र के प्रतिफल नहीं हैं। नकारात्मक भावना से उत्पन्न कार्य इतने महनीय तथा उदात्त रूप में प्रकट नहीं हो सकते। वस्तुतः जैन व्याकरण अन्यान्य पाणिनीयेतर व्याकरणों की भाँति ही संस्कृत सीखने की युगानुकूल आवश्यकताओं की पूर्ति के लिये रचे गये थे।

अष्टाध्यायी पद्धति सैकड़ों वर्षों के ऊहापोह पूर्ण अध्ययनों से समृद्ध होने के साथ–साथ बहुत पेचीदा भी हो गयी थी। पाणिनीय तन्त्र का तात्पर्य केवल अष्टाध्यायी के अध्ययन मात्र से गृहीत नहीं हो सकता था। सूत्र के साथ तत्सम्बद्ध वार्तिकों, इष्टियों तथा विभिन्न व्याख्याओं के बिना सूत्र का वास्तविक तात्पर्य जानना कठिन हो गया था। पाणिनि तथा पतञ्जलि के मध्यगत कालखण्ड में भाषा में जो भी विकास हुआ उसका अन्वाख्यान भी पाणिनीय परम्परा को ही करना था ताकि पाणिनीय तन्त्र अद्यतन बना रहे। पाणिनीय व्याकरण इस इतना संक्षिप्त, सुगठित, संश्लिष्ट तथा उपयोगी बन पड़ा था[1] कि शब्दान्वाख्यान के लिए किसी अन्य तन्त्र की कल्पना ही व्याख्याकारों को असह्य लगती थी[2]। वे शब्दान्वाख्यान में परम प्रमाण पाणिनि को ही मनते थे। इसी कारण वैयाकरण निकाय में एक प्रवाद चल पड़ा– सूत्रेष्वेव हि तत्सर्वं यद्वृत्तौ यच्च वार्तिके (अर्थात् व्याख्याओं अथवा वार्तिकों के द्वारा जो कुछ भी जोड़ा गया है, वह सब कुछ पहले से ही सूत्रों में विद्यमान है)। इस मान्यता के पीछे आचार्य पाणिनि के प्रति श्रद्धातिरेक भी एक महत्त्वपूर्ण कारण रहा। सूत्रों के द्वारा ही सभी शब्दों की व्याख्या किये जाने की शर्त के कारण व्याख्याकारों को सूत्रों के दायरे को अनिवार्यतः बढ़ाना पड़ा था। इसके लिए उन्होंने पाणिनीय शास्त्र में अनेकानेक प्रविधियाँ जोड़ीं। कहीं उन्होंने योगविभाग किया, जो सूत्रों को दो भागों में तोड़ने को कहते हैं। कहीं वे ज्ञापक का उपयोग करते हैं, जो पाणिनि के सूत्रों से अप्रत्यक्ष रीति से अन्य तात्पर्यों के ग्रहण को कहते हैं। इसके अतिरिक्त तन्त्र, अनुवृत्ति, अपकृष्टि की विचित्रताएँ इत्यादि अनेक प्रविधियाँ सूत्र के दायरे को बढ़ाने के लिए स्वीकृत हैं। इन प्रविधियों को समझने के लिए पाणिनीय शास्त्र में व्याख्या की पर्याप्त अपेक्षा है। व्याख्यासापेक्षता की इसी विवशता को पाणिनीय तन्त्र में सबसे पहली परिभाषा द्वारा इस प्रकार स्पष्ट किया गया है–व्याख्यानतो विशेषप्रतिपत्तिर्न हि सन्देहादलक्षणम्[3] (अर्थात्, सूत्रों का विशेष तात्पर्य व्याख्यान से प्रकट होता है। सन्देहमात्र से सूत्र को शब्दान्वाख्यान में असमर्थ नहीं मान लेना चाहिए)। रोचक बात यह है कि सर्वोत्तम जैन वैयाकरण आचार्य हेमचन्द्र के न्यायसंग्रह में इस परिभाषा का कोई स्थान नहीं है। केवल हैम परिभाषाओं के संग्राहक, परिवर्धक तथा व्याख्याकार हेमहंसगणि ने व्याख्यानतो विशेषार्थप्रतिपत्तिः (परिभाषा–१२१) इस रूप में इसे स्थान दिया है। इस तथ्य से जैन व्याकरणों का स्वाभाविक गुण–उनकी स्पष्टता प्रकट होती है। पाणिनीय विद्वानों ने शास्त्र की इस व्याख्यागम्यता को पाणिनीय तन्त्र की विचित्रता कहकर समर्थित किया है – विचित्रा हि सूत्रस्य कृतिः पाणिनेः (काशिका १.२.३५)। पाणिनीय व्याकरण के विकास में अनेक युग लग गये हैं। कई भाषिक प्रयोग ऐसे हैं जिनका मर्म समझने के लिये हमें तीन मुनियों की शरण लेनी पड़ती है– यथोत्तरं मुनीनां प्रामाण्यम्।  अष्टाध्यायी की वृत्तियों में पाणिनि से पूर्व तथा पाणिनि के पश्चात् हुए अनेकानेक आचार्यों के मत लिखित अथवा अलिखित रूप में चले आ रहे थे। इन सबका सरलतया एकीकरण तथा परिपूर्ण प्रस्तुति प्रत्येक युग की आवश्यकता रही है। इसी आवश्यकता की पूर्ति हेतु जिस प्रकार कातन्त्र आदि अजैन व्याकरण भाषा की व्याकृति में प्रवृत्त हुए उसी प्रयोजन की पूर्ति के लिए जैन वैयाकरणों ने भी अपने व्याकरण रचे। ये व्याकरण अपने समय में (तथा उसके बाद भी) बहुत उपयोगी तथा लोकप्रिय हुए साथ ही उन्होंने भारतीय व्याकरण वाङ्मय की धारा को नये आयाम भी दिये।

भारत की भाषिक परम्परा तथा उसके वैज्ञानिक विश्लेषण की धारा कभी जड नहीं हुई। संस्कृत भाषा का स्वरूप स्थिर हो जाने तथा उसके लोकभाषा नहीं रहने के बावजूद उसके शिक्षण की प्रविधियों में नवीनताएँ देखी जाती रहीं। पाणिन्युत्तर व्याकरण इसी प्रवृत्ति के परिणाम हैं। यदि इन व्याकरणों के प्रणयन का कारण भाषा शिक्षण न होकर साम्प्रदायिक विद्वेष अथवा प्रतिस्पर्धा मात्र होता तो विभिन्न युगों में इतनी बड़ी संख्या में जैन व्याकरण न लिखे गये होते। जैनेन्द्र, शाकटायन के बाद हेमचन्द्र जैसे परिपूर्ण व्याकरण के होने के बावजूद जैन वैयाकरणों द्वारा निरन्तर व्याकरण प्रणयन की प्रवृत्ति बताती है कि इन व्याकरणों की रचना के प्रयोजक भाषा शिक्षण की सरलतम विधियों का अन्वेषण तथा जैन विद्वानों की निरन्तर शास्त्र–व्यसनिता है।

जैन समाज में अध्ययन तथा अध्यापन के लिए केवल जैन विद्वानों द्वारा लिखे गये व्याकरण ही ग्राह्य नहीं रहे  बल्कि पाणिनीय व्याकरण सहित अन्यान्य व्याकरण भी पर्याप्त प्रचलित रहे हैं। अगर जैन मानस में शिक्षण पद्धति को लेकर वस्तुतः साम्प्रदायिक द्वेष होता तो जैनों की शिक्षण पद्धति में कातन्त्र अथवा सारस्वत व्याकरण इतने महत्त्वपूर्ण नहीं रहे होते। ध्यातव्य है कि उपर्युक्त व्याकरण पाणिनीयेतर तो हैं लेकिन इनके रचयिता जैन विद्वान् नहीं हैं।

हेमचन्द्र इत्यादि अनेक जैन वैयाकरणों ने पाणिनि तथा पतञ्जलि का नाम बहुत ही श्रद्धा से लिया है[4]। पारस्परिक सहयोग तथा सम्मान के कई उदाहरण प्रस्तुत कर इसका खण्डन बहुत सरलता से किया जा सकता है कि जैनाचार्यों के व्याकरण लेखन के प्रयोजक साम्प्रदायिक द्वेष अथवा प्रतियोगिता मात्र थे। जैन व्याकरणों के अध्ययन से पदे–पदे यह द्योतित होता है कि ये चिरन्तन भारतीय व्याकरण वाङ्मय के विकास के अगले पड़ाव हैं, उनसे विरुद्ध या भिन्न नहीं।

पाणिनि की तुलना में शाकटायन आदि जैन वैयाकरणों के समय तथा समाज में भाषिक परिस्थितियाँ पर्याप्त भिन्न हो गयी थीं। पर्याप्त अवधि तक जनसामान्य की भाषा रहने के सहस्राब्दियों बाद तक भी संस्कृत भाषा चिन्तन,मनन तथा शास्त्रार्थ की भाषा बनी रही। ऐसी स्थिति में संस्कृत के शुद्धतम ज्ञान का सरलतम साधन पाणिनि की अष्टाध्यायी रही। सहस्राब्दियों तक अष्टाध्यायी की भूमिकाएँ बदलती रहीं। समय बदलने के साथ साथ अष्टाध्यायी का महत्त्व बढ़ता ही गया। पाणिनि ने अष्टाध्यायी की रचना वैदिक संस्कृत की सुरक्षा[5] तथा लौकिक संस्कृत के विश्लेषण के लिए की थी। उनके सूत्रों की संरचना शिष्टजनों के द्वारा प्रयुक्त भाषा के आधार पर की गयी थी[6]। महाभाष्य के काल तक सम्भवतः शिष्टजनों (संस्कृत भाषा के जन्मजात प्रयोक्ताओं) की अल्पता होने तथा भाषा में अपभ्रंश प्रयोगों के बढ़ जाने के कारण अष्टाध्यायी का उपयोग शिष्ट जनों (तथा उनके द्वारा प्रयुक्त मानक भाषा) की पहचान के लिए किया जाने लगा था[7]। पतञ्जलि के बाद जब संस्कृत के जन्मजात  वक्ताओं की संख्या समाप्त होने लगी तब अष्टाध्यायी का उपयोग संस्कृत भाषा को सीखने के लिए व्यापक रूप से किया जाने लगा। विदेशी यात्री इत्सिंग(६३५–७१३ई॰) के विवरणों से पता चलता है कि उस समय प्राचीन भारत में जनसाधारण में पाणिनि का प्रवेश अतीव सघन था[8]। पाणिनि कालीन समाज में अधिकांश लोगों की भाषा संस्कृत थी तथा बहुत सारे लोग संस्कृत को समाज से सीख पाते थे। पाणिनि ने वैदिक तथा लौकिक दोनों स्वरूपों को स्वतन्त्र भाषिक प्रवृत्तियाँ मानते हुए भी दोनों के विवेचन को इस तरह परस्पर सम्पृक्त रूप प्रस्तुत किया कि अष्टाध्यायी के क्रमपूर्वक अध्ययन करने पर ये दोनों भाषाएँ सहज रूप से अधिगत हो जाती हैं। जैन व्याकरणों की रचना पाणिनि के लगभग एक हज़ार वर्ष बाद प्रारम्भ हुई। उस समय तक भाषिक परिस्थितियाँ काफ़ी भिन्न हो चुकी थीं। संस्कृत अब मातृभाषा नहीं रही। अब इसे द्वितीय भाषा के तौर पर सीखा जाना था[9]। द्वितीय भाषा ग्रहण (Second language acquisition) की प्रविधियाँ भी स्वभावतः भिन्न होती हैं। पाणिनि ने संस्कृत के लिए जिन प्रविधियों का प्रयोग किया था अब उनके परिवर्तन की आवश्यकता अनुभूत होने लगी थी। इसी कारण पाणिन्युत्तर वैयाकरणों ने शिक्षण की नवीन वैज्ञानिक प्रविधियों का अन्वेषण करके नये व्याकरणों का प्रणयन किया। उपर्युक्त तथ्य के आलोक में पाणिनीयेतर व्याकरणों का अध्ययन किये जाने पर ये शिक्षणपरक सूक्ष्म तकनीकें स्पष्ट हो जाती हैं। हम देखते हैं कि परिवर्तित युग में प्रासङ्गिक बने रहने के लिये पाणिनीय तन्त्र को भी बाद में प्रक्रिया प्रविधि का आश्रय लेकर अपने आप को युगानुकूल बनाना ही पड़ा।

जैन तथा वैदिक विद्वानों के मध्य प्रतिस्पर्धा की बात करें तो यह एक स्वाभाविक परिघटना थी जिसे झुठलाया नहीं जा सकता है। प्रभावकचरित (२२–८३) से पता चलता है कि ब्राह्मण लोग पाणिनीय व्याकरण को वेद का अङ्ग बताते थे और अवैदिक जैनों के द्वारा उसके अध्ययन किये जाने पर अहंकारवश ईर्ष्यापूर्ण आक्षेप करते थे। उनके लिये यह उपहास का विषय था कि “आप वेद को तो मानते नहीं लेकिन वेदाङ्गों के बिना आपका काम नहीं चल सकता”–

पाणि(नि)नेर्लक्षणं वेदस्याङ्गमित्यत्र, च द्विजाः।

अवलेपादसूयन्ति कोऽर्थस्तैरुन्मनायितैः॥

जिनेश्वर के अनुसार ब्राह्मण जैनों में शब्दलक्ष्म तथा प्रमालक्ष्म का अभाव बताते हुए उन्हें परलक्ष्मोपजीवी तथा परग्रन्थोपजीवी कहा करते थे। इस आक्षेप के उत्तर में बुद्धिसागर सूरि ने पञ्चग्रन्थी नामक व्याकरण की रचना की[10]

शब्दलक्ष्म प्रमालक्ष्म यदेतेषां न विद्यते।

नादिमन्तस्ततो ह्येते  परलक्ष्मोपजीविनः॥ (प्रमालक्ष्म पृ॰८९)

उपर्युक्त आक्षेप का मुक़ाबला करने के लिये भी जैन वैयाकरण स्वतन्त्र व्याकरणों के प्रणयन में प्रवृत्त हुए होंगे, ऐसी सम्भावना की जा सकती है। इसके अतिरिक्त पाणिनि तथा अन्यान्य वैयाकरणों के सर्वलोकातिशायी यश से लुब्ध होना भी इन व्याकरणों के प्रणयन में एक कारण प्रतीत होता है[11]। हेमचन्द्र इत्यादि कई वैयाकरणों ने अपने आश्रयदाताओं अथवा गुरुओं के आदेश पर भी व्याकरण लिखे।

आगे के जैन वैयाकरणों के व्याकरण वाङ्मय की सामान्य प्रवृत्तियों को पहचानने का प्रयत्न किया जा रहा है। इससे इन वैयाकरणों का संस्कृत भाषा तथा व्याकरण पद्धति के प्रति दृष्टिकोण और अधिक स्पष्ट होकर सामने आ पायेगा–

  • सरलता की प्रवृत्ति–

जैन वैयाकरणों के काल तक जनता पाणिनीय व्याकरण की क्लिष्टता से स्वभावतः त्रस्त हो चुकी होगी। सामान्यतः भी व्याकरण शास्त्र पर कठिनता का आक्षेप बद्धमूल हो चुका था। समाज में प्रचलित कष्टं व्याकरणं शास्त्रम्[12], मरणान्तो व्याधिः व्याकरणम्[13] आदि कहावतें व्याकरण के प्रति सामान्य अरुचि को प्रदर्शित करती हैं। इस कारण पाणिनि की अपेक्षा जैन वैयाकरणों को विशिष्टता प्राप्त करने के लिए अपनी पद्धति को सरल तथा संक्षेप करना ही था। प्रशिक्षु जनता व्याकरण को सरलता पूर्वक सीखना चाहती थी। जैन वैयाकरणों ने व्याकरण-शिक्षण को अपेक्षाकृत सरल बनाने का प्रयत्न करके अपने को अनन्यथासिद्ध किया है। इस उद्देश्य की प्राप्ति के लिये उन्होंने कई तकनीकें अपनायीं। उदाहरण के लिए उन्होंने अनेक जगह कठिन सूत्रों को स्पष्ट किया। कई स्थान पर बहुत तरह के सूत्रों को छोड़ दिया। अनेक बड़ी संज्ञाओं को छोटा बनाया तथा गणसूत्रों में अनेकानेक प्रकार के परिवर्तन किये। जैनेन्द्र महावृत्तिकार अभयनन्दी ने बड़े ही कटु शब्दों में पाणिनि की अपेक्षा देवनन्दी के व्याकरण की विशेषताएँ निम्नलिखित शब्दों में बतायी हैं–

पाणिनिना यदयुक्तं लपितं कृत्वाष्टकं मोहात्।

तदिह निरस्तं निखिलं श्रीगुरुभिः पूज्यपादाख्यैः[14]

(पाणिनि ने अष्टाध्यायी में भ्रमवश जितनी भी अनुचित बातें की थीं सबको हमारे गुरु

पूज्यपाद देवनन्दी ने निरस्त कर दिया।)

  • विशदता–

पाणिन्युत्तर वैयाकरणों की सामान्य प्रवृत्ति यह रही कि वे कार्य जो पाणिनीय शास्त्र में ज्ञापकों या संकेतों के माध्यम से हो रहे थे उन सबको उन्होंने शब्दतः कहकर सूत्र में सम्मिलित कर दिया। उदाहरण के लिये वाक्य की प्रातिपदिक संज्ञा का निषेध पाणिनीय तन्त्र में ज्ञापक से होता है। कृत्तद्धितसमासाश्च (पा॰१.२.४६) सूत्र में समास का ग्रहण इस नियम को बताता है कि जहाँ अनेक समुदाय सार्थक हों वहाँ समास की ही प्रातिपदिक संज्ञा हो अन्य की नहीं[15]। हेमचन्द्र ने सूत्र में वाक्य के प्रातिपदिक (हेमचन्द्र के अनुसार नाम) संज्ञा का निषेध शब्दतः ही कर दिया– अधातुविभक्तिवाक्यमर्थवन्नाम (है॰ १.१.२७)। स्पष्टता की प्रवृत्ति के कारण ही हेमचन्द्र ने अपने व्याकरण में प्रत्याहारों का उपयोग न करके लोक प्रसिद्ध संज्ञाओं का उपयोग किया है। उदाहरण के लिए अच् के स्थान पर स्वर, हल् के स्थान पर व्यञ्जन आदि[16]। अध्येताओं का स्वाभाविक अनुभव है कि पाणिनि की ये संज्ञाएँ कृत्रिम हैं जिनके कारण शास्त्र की कठिनता बढ़ जाती है।

  • संग्रह वृत्ति–

जैन वैयाकरणों ने अपने ग्रन्थों के माध्यम से सहस्राधिक वर्षों की पाणिनीय तथा अपाणिनीय व्याकरण परम्परा का संग्रह तथा उसकी सुरक्षा की। भाषा ज्ञान के लिये सारी आवश्यक उपयोगी बातें एक जगह संगृहीत हो जायें ताकि अध्येता को श्रम न करना पड़े इसके लिये उन्होंने यथोपलब्ध सिद्धान्तों का संग्रह किया। इससे लाभ यह हुआ कि पाणिनीय तन्त्र में जो कार्य अनेकानेक व्याख्याग्रन्थों की सहायता से हो पाता था वह इन व्याकरणों में प्रत्यक्ष सूत्रों द्वारा एक स्थान पर ही प्राप्त हो जाता है। शाकटायन के टीकाकार यक्षवर्मा ने इसी तथ्य को निम्नोक्त शब्दों में प्रकट किया है–

इष्टिर्नेष्टा न वक्तव्यं वक्तव्यं सूत्रतः पृथक्।

संख्यानं नोपसंख्यानं यस्य शब्दानुशासने॥

इन्द्रचन्द्रादिभिः शाब्दैर्यदुक्तं शब्दलक्षणम्।

तदिहास्ति समस्तं च, यन्नेहास्ति न तत् क्वचित्॥

(शाकटायन के व्याकरण में इष्टियों की आवश्यकता नहीं पड़ती, वक्तव्यवार्तिकों को अलग से नहीं कहना पड़ता, उपसंख्यानवार्तिकों को गिनना नहीं पड़ता। इन्द्र, चन्द्र आदि वैयाकरणों के द्वारा जो भी शब्द लक्षण बनाये गये हैं, वे सब यहाँ हैं। जो इस व्याकरण में नहीं है वह कहीं भी नहीं है।)

  • लाघव की प्रवृत्ति–

जैन वैयाकरणों ने अनेक स्थलों पर सूत्र रचना में पाणिनि से भी अधिक लाघव प्रदर्शन का प्रयत्न किया। जैनेन्द्र की एकाक्षरी सञ्ज्ञाओं का विवरण आगे दिया जायेगा। अनेक जगह जैन वैयाकरणों ने सूत्रों का न्यास इस तरह से किया है कि वे पाणिनीय सूत्र की अपेक्षा छोटे हो गये हैं। उदाहरण के लिये पाणिनि के यस्य चायामः (अष्टा॰ २.१.६) की अपेक्षा देवनन्दी ने आयामिना (जै॰ १.३.१३) सूत्र बनाया है। इस प्रकार ऐसे उदाहरणों में सरलता और लाघव दोनों प्रयोजन पूरे हो सके हैं। कई बार लाघव की अति ने जैनेन्द्र व्याकरण को दुर्बोध बनाकर उसकी हानि ही की है। कई जगह सूत्रों के न्यास मात्र को इधर उधर परिवर्तित करके एक अथवा कई मात्राओं का लाघव प्राप्त कर लिया गया है। उदाहरण के लिए पाणिनि के लक्षणेनाभिप्रती आभिमुख्ये (अष्टा॰ २.१.१४) को लक्षणेनाभिमुख्येऽभिप्रती (जै॰१.३.११) पढ़कर देवनन्दी ने एक अक्षर का लाघव प्राप्त कर लिया। इसी तरह अनुर्यत्समया (अष्टा॰ २.१.१५) को यत्समयानुः (जै॰ १.३.१२) के रूप में उपन्यस्त करके जैनेन्द्र द्वारा एक अक्षर का लाभ ले लिया गया है। यह प्रवृत्ति इतनी अधिक दिखायी पड़ती है कि पाणिनि व्याकरण के अध्येता को ऐसा लगता है कि जैन वैयाकरणों ने केवल पाणिनि से अलग दिखने की होड़ में सूत्रों के क्रम को बदल कर रख दिया है[17]

  • वैदिक भाषा की उपेक्षा–

पाणिनि का व्याकरण संस्कृत के वैदिक तथा लौकिक दोनों रूपों का विश्लेषण करता है[18]। यही पाणिनीय व्याकरण की पूर्णता है। वस्तुतः पाणिनि व्याकरण संस्कृत के वैदिक तथा लौकिक दोनों रूपों को अलग अलग नहीं मानता[19]। यही कारण है कि अष्टाध्यायी में दोनों भाषाओं की व्याकृति युगपत् की गयी है। अष्टाध्यायी क्रम से अध्ययन करता हुआ विद्यार्थी लौकिक तथा वैदिक दोनों भाषाओं में एक साथ प्रवीणता प्राप्त करता है। जैन व्याकरणों की सामान्य विशेषता है वैदिक भाषा सम्बन्धी सूत्रों का न होना। जैन वैयाकरणों का प्रमुख उद्देश्य अध्येताओं को लौकिक भाषा का सरल व्याकरण प्रदान करना था। वैदिक भाषा के जन सामान्य से बहुत दूर होने के कारण उसके अन्वाख्यान को मिश्रित करना लौकिक व्याकरण के अध्ययन में अनावश्यक कठिनाई उत्पन्न करता था इस कारण उन्होंने इसे अपने ग्रन्थों में सम्मिलित नहीं किया। स्वर प्रक्रिया वैदिक व्याकरण का प्रमुख अभिलक्षण है। वैदिक व्याकरण का सन्निवेश न करने के कारण जैन वैयाकरणों को पर्याप्त लाघव भी हुआ, क्योंकि पाणिनि ने बहुत सारे समान आकृति वाले प्रत्ययों को केवल इसलिये भिन्न किया है ताकि वे वैदिक वाङ्मयगत स्वरों की विचित्रता की व्याख्या कर पाएँ। उदाहरण के लिये शानच्–शानन्, तृन्–तृच्, ङीन्–ङीप् आदि जोड़ों में से जैन वैयाकरण केवल एक का ग्रहण करके कृतकृत्य हो जाते हैं।

इस प्रवृत्ति का दूसरा कारण यह भी लग सकता है कि वैदिक संहिताएँ जैनों के सम्प्रदाय के अनुकूल नहीं थीं, अथवा उनको वैदिक सिद्धान्तों से द्वेष था इस नाते उन्होंने वैदिक भाषा को अपने व्याकरणों में सम्मिलित नहीं किया। यह मत रोचक होने के बावजूद सारवान् नहीं है। हमें यह तथ्य ध्यान रखना चाहिये कि पाणिन्युत्तर काल में केवल भोज के सरस्वतीकण्ठाभरण के अतिरिक्त किसी भी अन्य व्याकरण में, चाहे वह जैन हो या अजैन, वैदिक नियमों को सम्मिलित नहीं किया गया[20]। इस उपेक्षा का कारण द्वेष नहीं अपितु व्याकृति की पद्धति में सरलता का यत्न था, जिसके लिये पाणिनीयेतर व्याकरण सामान्यतया प्रवृत्त हुए थे। बाद में पाणिनीय व्याकरण की भी सूत्र अथवा प्रक्रिया दोनों परम्पराओं में वैदिक सूत्रों की उपेक्षा हुई। बंगाल के वैयाकरण पुरुषोत्तमदेव ने पाणिनीय सूत्रों का संस्करण भाषावृत्ति के नाम से तैयार किया। जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है इस पुस्तक में केवल भाषा अर्थात् लौकिक संस्कृत से सम्बन्धित सूत्र ही ग्रहण किये गए हैं। पाणिनीय प्रक्रिया ग्रन्थों ने वैदिक सूत्रों को ग्रन्थ से निकाला तो नहीं लेकिन उनको अन्त में अलग प्रकरण में व्यवस्थित कर दिया। इससे भी वस्तुतः वैदिक व्याकरण की उपेक्षा ही हुई[21]। वे सूत्र लौकिक व्याकरण से भिन्न दिखायी देने लगे तथा लोगों की प्रवृत्ति सामान्यतया उसमें कम होने लगी।

इसके अतिरिक्त यह बात भी ध्यातव्य है कि जैन व्याकरणों में वैदिक भाषा के प्रयोगों की नितान्त उपेक्षा हुई है यह पूर्ण सत्य नहीं है। उदाहरण के लिये देवनन्दी ने अपने जैनेन्द्र व्याकरण में अनेकानेक वैदिक शब्दों की सिद्धि के लिये सूत्र बनाये हैं। उदाहरण के लिए–आनाय्य, धाय्या, सानाय्य, कुण्डपाय्य, परिचाय्य, उपचाय्य (जै॰ २.१.१०४–०५)। इसके साथ साऽस्य (जै॰ ३.२.२१–२८) देवता के प्रकरण में प्राप्त विभिन्न वैदिक देवताओं को बिल्कुल पाणिनि की तरह ही व्युत्पादित किया है (Saini:91-92)। इनमें से कुछ के नाम हैं– शुक्र, अपोनप्तृ, महेन्द्र, सोम, द्यावापृथिवी, शुनासीर, मरुत्वत्, अग्नीषोम, वास्तोष्पति तथा गृहमेध।

  • जैन वातावरण की सृष्टि–

जैन व्याकरणों की रचना का मूल उद्देश्य था नये भाषिक समाज में संस्कृत को सरलता से सिखाना। चूँकि अधिकतर जैन वैयाकरण मुनि तथा धर्मोपदेष्टा थे इसलिये उनके व्याकरणों में जैन सिद्धान्तों से सम्बन्धित उदाहरणों का आना स्वाभाविक ही था। कई बार यह कार्य जानबूझ कर किया गया लेकिन अधिकतर यह कार्य स्वभावतः ही हो गया होगा। जैसे ही हम किसी जैन व्याकरण को पढ़ना प्रारम्भ करते हैं तो उसके सूत्रों की शृंखला प्रायः सिद्धिरनेकान्तात्, सिद्धिः स्याद्वादात् जैसे सूत्रों से शुरू होती है। वस्तुतः सभी शास्त्रों का समान उपकारक होने के कारण व्याकरणशास्त्र का स्वभाव ही अनेकान्तात्मक है। स्वयं महाभाष्यकार दार्शनिक चर्चाओं के मध्य किसी एक मत पर अड़ने के प्रति उदासीन दीखते हैं[22]। जैन वैयाकरणों ने व्याकरण शास्त्र की इस प्रकृति का जैन दर्शन के साथ अपूर्व सामञ्जस्य देखा है[23]। हेमचन्द्र के अनुसार शब्दों की व्युत्पत्ति तथा उनका ज्ञान दोनों अनेकान्तवाद पर आधारित हैं[24]। जैनेन्द्रव्याकरण में उच्चनीचावुदात्तानुदात्तौ (१.१.१३) सूत्र पर अभयनन्दी ने अपनी महावृत्ति में इस बात को स्पष्ट किया है कि यदि शब्द को एकान्ततया नित्य अथवा क्षणिक मान लिया जाएगा तो वर्णों में उदात्तादि धर्म संगत नहीं हो पाएंगे इसलिए इसकी सिद्धि अनेकान्तता को मानने पर ही हो पाएगी–

“नित्याः शब्दार्थसम्बन्धा इति यैरिष्यते तेषां निरवयवस्य नित्यस्य शब्दस्य

अवयवोपचयापचयाभावात् उदात्तादिव्यपदेशो न घटते, सावयवत्वे च तेषाम्

अनित्यत्वं प्राप्नोति। न च नित्यस्य स्थानकरणव्यापारविशेषाद् विशेषः प्रसज्यते।

क्षणिकपक्षेऽपि नैका नित्या स्वरजातिरस्ति यामपेक्ष्यायमत्रोच्चैरयं नीचैरिति व्यवहारो भवेत्।

तस्मादुक्तमनेकान्तमाश्रित्योदात्तादयः समर्थनीयाः।“ (पृ॰ ५)

जैन वैयाकरणों को निश्चित रूप से इस तथ्य का भान रहा होगा कि उनके पाठक जैन समाज से सम्बद्ध होंगे। इस कारण से उन्होंने जान बूझ कर जैन वातावरण की सृष्टि की ताकि अध्येताओं को व्याकरण के साथ साथ जैन सिद्धान्तों का भी ज्ञान हो जाये। साथ ही उन्होंने शब्दों के साथ अर्थों की उन छायाओं को हटाने का भी प्रयत्न किया जो शुद्ध रूप से वैदिक सिद्धान्तों के साथ सम्बद्ध थे। उदाहरण के लिये पत्नी शब्द की सिद्धि के लिये पाणिनि ने पत्युर्नो यज्ञसंयोगे(अष्टा॰ ४–१–१३३) सूत्र बनाया है। जिसका तात्पर्य है पति के साथ यज्ञ कर्म में जिसका संयोग हो उसका बोध कराने के लिये पति शब्द को नकारान्तादेश होता है। यज्ञ की शर्त की अनिवार्यता को अपने सम्प्रदाय के लिये अनुपयोगी मानते हुए देवनन्दी ने सूत्र का इस तरह न्यास नहीं किया है[25]

जैन वैयाकरणों का दृष्टिकोण अनेक स्थलों पर साम्प्रदायिक भी हो गया है। उदाहरण के लिये देवनन्दी ने अपने पूर्ववर्ती छः वैयाकरणों की नामग्राह चर्चा की है जिसमें सारे के सारे जैन हैं। पाणिनीय परम्परा के किसी भी आचार्य के मत का उल्लेख न करना उनके घोर साम्प्रदायिक दृष्टिकोण को प्रदर्शित करता है (Saini:84)। इसी प्रकार शाकटायन, जिन्होंने अपने शास्त्र का आधार अष्टाध्यायी को बनाया, ने कहीं भी पाणिनि या अन्य आचार्यों का नाम तक नहीं लिया[26]। उनके द्वारा लिये गये ३ आचार्यों के नाम हैं– इन्द्र, सिद्धनन्दी तथा आर्यवज्र (Saini:109)।

 

  • कतिपय नवीन शब्दों का अन्वाख्यान–

यद्यपि जैन वैयाकरणों के समय तक संस्कृत भाषा प्रचलन में नहीं थी तथापि उन्होंने ऐसे अनेक प्राचीन शब्दों का अन्वाख्यान अपने व्याकरण के माध्यम से किया है जिनके लिए पुराने वैयाकरणों ने सूत्रों की रचना नहीं की। उदाहरण के लिए शाकटायन ने पाणिनि के द्वारा अव्युत्पादित उत्पदिष्णु, प्रतिष्णान तथा खल इत्यादि शब्दों की सिद्धि के लिए सूत्र रचे हैं। शाकटायन ने पूर्व वैयाकरणों के द्वारा अव्युत्पादित जिन तद्धित शब्दों का अन्वाख्यान किया है वे हैं– ऐषकम्, अन्तःपुरिका, अर्धपलिक, अर्धकर्षिक, कौलीन (जल्पार्थक), सर्वशरावीण, यथाकामीन, अद्यप्रातीन, कृपालु, भाण्डीर, शमीरु आदि[27]

  • प्रविधियों की भिन्नता–

पाणिनि की अपेक्षा भाषा शिक्षण के उद्देश्य में भिन्नता होने के कारण जैन व्याकरणों में प्रयुक्त अन्वाख्यान की तकनीकें भी भिन्न दिखायी पड़ती हैं। इसका एक उदाहरण है अनुबन्धों का प्रयोग। ज्ञात ही है कि आचार्य पाणिनि वैदिक स्वरों के निश्चय के लिए अनेक अनुबन्धों की योजना करते हैं। पाणिनि के द्वारा प्रयुक्त अनुबन्ध जैन व्याकरणों में वही तात्पर्य प्रकट नहीं करते जो पाणिनि में करते हैं। उदाहरण के लिए पाणिनि के पित् प्रत्यय अन्त–अनुदात्त स्वर को सूचित करते हैं[28] जबकि शाकटायन के पित् तद्धित प्रत्यय परे रहने पर प्रकृति का पुंवद् भाव होता है[29]। पाणिनि के समय भाषा में उदात्तादि स्वरों में अर्थ भेदकता थी परन्तु समय के साथ यह प्रवृत्ति समाप्त हो गयी। इस कारण से जब जैन वैयाकरण उदात्त इत्यादि स्वरों को व्याकरणिक प्रविधि के रूप में प्रयोग करते हैं तो उनका तात्पर्य लौकिक उच्चारणात्मक स्वरों से न होकर केवल शास्त्रीय स्वरों से होता है[30]

आगे के पृष्ठों में व्याकरण निर्माण के प्रसङ्ग में जैन वैयाकरणों के द्वारा अपनायी गयी प्रविधियों एवं उसके द्वारा प्राप्त उपलब्धियों का दिङ्मात्र क्रमिक निदर्शन किया जा रहा है–

जैनेन्द्रपूर्व जैन व्याकरण

जैन व्याकरण के कुछ ग्रन्थों में तथा मैत्रेयरक्षित विरचित धातुपाठ के व्याख्यान तन्त्रप्रदीप में कुछ ऐसे उद्धरण प्राप्त होते हैं जिसके आधार पर ज्ञात होता है कि क्षपणक नामक विद्वान् ने भी किसी व्याकरण की रचना की थी। ये महाराज विक्रम के समकालीन थे[31]। सम्भव है कि ये जैन विद्वान् सिद्धसेन दिवाकर से भिन्न हों। देवनन्दी ने अपने व्याकरण में ६ वैयाकरणों के नाम से मत उद्धृत किये हैं जो स्पष्ट रूप से जैन प्रतीत होते हैं। वे हैं– भूतबलि, श्रीदत्त, यशोभद्र, प्रभाचन्द्र, सिद्धसेन और समन्तभद्र। पाल्यकीर्ति शाकटायन ने इन्द्र, सिद्धनन्दी और आर्यवज्र के मतों का उल्लेख भी किया हैं। नाथूराम प्रेमी के विपरीत युधिष्ठिर मीमांसक मानते हैं कि इन आचार्यों ने अपने अपने व्याकरणों का प्रवचन अवश्य किया होगा (मीमांसक १९९६:६२९)।

पूज्यपाद देवनन्दी (५वीं सदी ई॰)

जैन व्याकरणों में सर्वप्रथम उपलब्ध व्याकरण दिगम्बर सम्प्रदाय से सम्बद्ध पूज्यपाद देवनन्दी कृत जैनेन्द्र व्याकरण है। इनका समय पाँचवीं शताब्दी ईस्वी निश्चित किया गया है। अष्टौ व्याकरणानि[32]के अन्तर्गत गिने जाने के कारण वैदिक तथा अवैदिक समस्त व्याकरणों में जैनेन्द्र की प्रसिद्धि स्पष्ट होती है। जैन शास्त्रीय वाङ्मय में तो इसे शास्त्रीय त्रिरत्नों में से एक कहा गया है[33]। बाद में इस व्याकरण को दिव्यता प्रदान करने के कई प्रयत्न भी हुए। इनसे भ्रमित होकर कीलहा̆र्न आदि अनेक विद्वानों ने यह सम्भावना व्यक्त की है कि इस व्याकरण के प्रवाचक महावीर जिन हैं। अत्यन्त अर्वाचीन ग्रन्थ भगवद्वाग्वादिनी में यह कथा दी गयी है कि भगवान् महावीर ने अपने किशोर वय में इन्द्र के प्रति इसका उपदेश किया था[34]।यह कथा जैनेन्द्र शब्द की व्युत्पत्ति के लिये प्रस्तुत अर्थवाद की तरह लगती है[35]। उपर्युक्त भ्रान्तियाँ जैनेन्द्र शब्द के एकदेश इन्द्र शब्द के कारण आ गयी हैं। पर्याप्त आन्तरिक प्रमाण सिद्ध करते हैं कि प्रकृत व्याकरण के कर्ता महावीर न होकर देवनन्दी ही हैं।

जैनेन्द्र व्याकरण के औदीच्य तथा दाक्षिणात्य दो संस्करण प्राप्त होते हैं। दोनों में से मूल औदीच्य संस्करण ही है। इसमें एकशेष प्रकरण नहीं है[36] तथा अभयनन्दी की महावृत्ति इसी पाठ पर है।

जैनेन्द्र व्याकरण पाँच अध्यायों में विभक्त है तथा प्रत्येक अध्याय में चार–चार पाद हैं। अष्टाध्यायी के ८ अध्यायों की अपेक्षा देवनन्दी के ५ अध्याय सुनने में लाघवपूर्ण लग सकते हैं परन्तु वस्तुतः दोनों व्याकरणों में केवल ३०० सूत्रों का अन्तर का है। जैनेन्द्रव्याकरण में एकशेष का प्रकरण न होना इसका अभिलक्षण बताया जाता है। लेकिन एकशेषविहीनता वस्तुतः जैनेन्द्र व्याकरण की अपनी मौलिक सोच नहीं है। महाभाष्यकार ने ही एकशेष प्रकरण की प्रयोजनहीनता जान ली थी। चान्द्र व्याकरण में भी इस प्रकरण को सम्मिलित नहीं किया गया है। फिर भी देवनन्दी की विशेषता यह है कि उन्होंने पहली बार सूत्र बना कर इसे स्पष्ट किया, ऐसे ही जैसे पाणिनि ने लिङ्ग आदि की अशिष्यता सूत्र बनाकर द्योतित की थी[37]

जैनेन्द्र व्याकरण में लाघव के लिये पाणिनि की महती संज्ञाओं के स्थान पर अधिकतर एकाक्षरी (mono-syllabic) संज्ञाओं का विधान किया गया है[38]। पाणिनि ने भी घ, टि, भ आदि एकाक्षर संज्ञाओं का प्रयोग किया था। लेकिन पाणिनि ने यह कार्य वहीं किया था जहाँ उनको परम्परा से अन्वर्थ संज्ञाएँ उपलब्ध नहीं हुई थीं। अन्यथा उन्होंने सर्वनाम अथवा सर्वनामस्थान जैसी बड़ी संज्ञाएँ भी प्रयुक्त कीं। बड़ी संज्ञाओं का प्रयोग पाणिनि ने  प्रायः अन्वर्थता के लिये किया है[39]। संज्ञाओं में अन्वर्थता नहीं रहने से अर्थकृत लाघव समाप्त हो जाता है। अर्थकृत लाघव शब्दकृत लाघव की अपेक्षा अधिक स्पृहणीय है। सम्बुद्धि के लिये देवनन्दी ने कि संज्ञा बनायी है जो अन्वर्थ न होने के कारण सम्बुद्धि की अपेक्षा स्पष्टतः क्लिष्ट है। देवनन्दी ने इस प्रकार की संज्ञाओं के लिये शान्तनव इत्यादि पाणिनि पूर्ववर्ती आचार्यों से प्रेरणा प्राप्त की होगी। शान्तनव ने भी फिट् तथा नप् आदि एकाक्षरी संज्ञाओं का उपयोग किया है[40]। अनेकत्र इन संज्ञाओं के प्रयोग में पूज्यपाद का वैज्ञानिक दृष्टिकोण भी दिखायी पड़ता है। उदाहरण के लिये– प्रथम पुरुष को अन्य पुरुष कहना, उत्तम पुरुष को अस्मद् कहना उन्हें पहले की अपेक्षा सरलतर बनाता है। उपसर्जन जैसे बड़े शब्द को छोड़कर उन्होंने न्यक् शब्द का ग्रहण किया। यह शब्द भी लगभग उपसर्जन के अर्थ को ही देता है। केवल इन्हीं कुछ वैज्ञानिक संज्ञाओं– नप् तथा न्यक् आदि को देवनन्दी के परवर्ती पाल्यकीर्ति शाकटायन ने भी यथावत् ग्रहण किया है। विभक्ति शब्द को व, इ, भ, अ, क, त तथा इ, इनमें तोड़कर देवनन्दी ने प्रथमा से सप्तमी के लिये निम्नोक्त नाम गढ़े– वा, भा, इप्, अप्, का, ता, तथा ईप्। इसके अतिरिक्त उन्होंने ऐसी अनेक व्याकरणिक कोटियों के लिये संज्ञाएँ भी बनायीं जिनका प्रयोग पाणिनि ने बिना संज्ञाओं के ही कर दिया था।  जैसे– उत्तरपद के लिए द्यु तथा अकर्मक के लिए धि संज्ञा। इन बीजगणितीय एकाक्षरी संज्ञाओं के प्रयोग से जैनेन्द्र व्याकरण में शाब्दिक लाघव ज़रूर आया–उदाहरण के लिये हलोऽनन्तराः संयोगः(पा॰१.१.७) की जगह सूत्र का स्वरूप हो गया हलोऽनन्तराः स्फः (जै॰ १.१.३), परन्तु अत्यन्त क्लिष्ट तथा कल्पनामात्रगम्य हो जाने के कारण इस प्रवृत्ति ने व्याकरण को कठिन बना दिया। सरल बनाने की जुगत में स्वीकृत संज्ञाओं की इस प्रवृत्ति ने जैनेन्द्र व्याकरण को लोकप्रिय नहीं होने दिया। परवर्ती वैयाकरणों में बोपदेव को छोड़कर किसी ने भी इन एकाक्षरी संज्ञाओं का उपयोग नहीं किया।

प्रत्याहारों के विषय में प्रतीत होता है कि पूज्यपाद ने केवल १३ प्रत्याहार सूत्र माने थे। लृकार को वर्णसमाम्नाय में स्थान नहीं दिया गया है। हम जानते हैं कि लृकार के प्रत्याख्यान के बीज वार्तिककार तथा महाभाष्यकार में भी मिलते हैं। हयवरट् तथा लण् को एक सूत्र हयवरण् में समाहित कर लिया गया है। अन्तिम सूत्र में विसर्ग, अनुस्वार, अनुनासिक को भी सम्मिलित कर लिया गया है। कम से कम दो स्थलों पर जैनेन्द्र व्याकरण में नयी तकनीक देखने को मिलती है। इसे उन्होंने अपनी दो परिभाषाओं से व्यक्त किया है। पहला है– नब्बाध्यमासम् (१.२.९१) तथा दूसरा है– सूत्रेऽस्मिन् सुब्विधिरिष्टः(५–२–११४)। नब्बाध्यमासम् सूत्र के अनुसार नपुंसक लिंग के द्वारा निर्देशित विधियाँ पुंलिङ्ग के द्वारा बाधित हो जाती हैं[41]। उदाहरण के लिए जैनेन्द्र व्याकरण में कर्म संज्ञा का पाठ नपुंसक लिंग तथा करण संज्ञा का पाठ पुंल्लिङ्ग में किया गया है। इसी कारण “अक्षैर्दीव्यति” के साथ “अक्षान् दीव्यति” प्रयोग भी साधु हो जाता है। एक और उदाहरण पर ध्यान देना रुचिकर होगा। हम जानते हैं कि पाणिनि ने पद संज्ञा (सुप्तिङन्तं पदम्–अष्टा॰ १.४.१४) के अपवाद रूप में भसंज्ञा (यचि भम्–अष्टा॰ १.४.१८) की व्यवस्था की है। भसंज्ञा के प्रसंगों को पद संज्ञा बाधित नहीं कर पाता क्योंकि पद संज्ञा सामान्य है तथा भ संज्ञा विशेष है। यह जानने के लिए हमें दोनों संज्ञाओं में उत्सर्गापवाद–भाव का निर्णय करना होता है। इसके बिना दोनों में बाध्य–बाधक भाव का निर्णय नहीं हो पाता। देवनन्दी ने इन दोनों संज्ञाओं के बाध्य बाधक भाव को उपर्युक्त तकनीक से अत्यन्त स्पष्ट कर दिया है। उन्होंने दोनों सूत्रों को सुम्मिङन्तं पदम् (१.२.१०३ ) तथा यचि भः (१.२.१०७) के रूप में पढ़ा है। पद को नपुंसक लिंग में पढ़ने से पुंलिङ्ग भ के द्वारा उसकी बाधनीयता का ज्ञान अतीव सरलता से हो जाता है। जहाँ दो संज्ञाओं का समावेश करना होता है वहाँ देवनन्दी “च” का ग्रहण कर देते हैं[42]

पाणिनि के सूत्रों में अनेक बार लिङ्ग, वचन अथवा विभक्तियों का व्यत्यय दिखाई पड़ता है। इन प्रसंगों में व्याख्याकार विभक्ति अथवा वचनों के विपरिणाम की तकनीक का सहारा लेते हैं तथा इस प्रकार के व्यत्ययों का समर्थन वे “छन्दोवत् सूत्राणि भवन्ति[43]” के न्याय से करते हैं। स्वयं पाणिनि ने इस विषय में कुछ नहीं कहा है लेकिन पूज्यपाद देवनन्दी ने सूत्रों में विद्यमान इस व्यत्यय की प्रवृत्ति की ओर संकेत करते हुए सूत्रेऽस्मिन् सुब्विधिरिष्टः (५.२.११४) सूत्र की रचना की है। इसका तात्पर्य यह है कि सूत्रों में सुबन्त सम्बन्धी उपर्युक्त प्रकार के व्यत्यय स्वाभाविक होते हैं[44]

जैनेन्द्र व्याकरण में त्रिमुनि व्याकरण की परम्परा का विकास किस प्रकार लक्षित होता है, इसे जानने के लिए एक उदाहरण पर्याप्त होगा। पाणिनि ने अष्टाध्यायी १.४.२४ से १.४.३१ तक ८ सूत्रों द्वारा अपादान संज्ञा का विधान किया है। महाभाष्यकार पतञ्जलि ने ध्रुवमपायेऽपादनम् (१.४.२४) के अतिरिक्त अन्य सभी सूत्रों का खण्डन कर दिया है। उनके अनुसार अन्य सभी सूत्रों के प्रयोजन पहले ही सूत्र से गतार्थ हो जायेंगे। कारण यह है कि बाक़ी सारे सूत्रों द्वारा उपस्थापित प्रसंगों में भी किसी न किसी तरह का विश्लेष व्यक्त हो ही रहा है, चाहे वह कायिक हो अथवा बौद्धिक भी। फलतः उन सूत्रों को अलग से पढ़ने की आवश्यकता नहीं हैं[45]। देवनन्दी ने महाभाष्यकार को परम प्रमाण मानते हुए अपादान प्रकरण में केवल एक ही सूत्र बनाया है तथा उसमें बुद्धि के अंश का स्पष्टतः निर्देश कर दिया है– ध्यपाये ध्रुवमपादानम् (जै॰ १.२.११०)। इस सूत्र का तात्पर्य है बुद्धि से किसी वस्तु को प्राप्त करके यदि विभाग विवक्षित हो तो ध्रुव की अपादान संज्ञा होती है। इस प्रकार शेष ७ सूत्रों की आवश्यकता नहीं पड़ती है[46]– धीग्रहणे ह्यसति कायप्राप्तिपूर्वक एवापायः प्रतीयेत धीग्रहणेन सर्वः प्रतीयते। (महावृत्ति, पृ॰ ३७)। बाद के सभी जैन वैयाकरणों ने इस प्रवृत्ति को स्वीकार किया है।

जैनेन्द्र व्याकरण पर स्वयं देवनन्दी की वृत्ति का पता चलता है जो अब अनुपलब्ध है। अभयनन्दी (९७४–१०३५ वि॰) ने इस पर महावृत्ति की रचना की थी। यह कई दृष्टियों से बहुत अधिक महत्त्वपूर्ण है। जैन वातावरण की सृष्टि के लिये नवीन उदाहरणों की उद्भावना, ऐतिहासिक तथा समाजशास्त्रीय महत्त्व के अनेक उदाहरणों का प्राप्त होना इसकी अन्यतम विशेषताएँ हैं। इन्होंने अपनी विशद टीका में पाणिनीय परम्परा की बहुत सी सामग्री का संरक्षण किया है। थोड़े–थोड़े परिवर्तन करके देवनन्दी ने अनेकत्र प्राचीन व्याकरणिक वचनों को जैनेन्द्र व्याकरण के अनुकूल कर दिया है[47]

  प्रभाचन्द्र(११वीं शती विक्रमी) ने इस पर शब्दाम्भोजभास्करन्यास नामक टीका लिखी है जो पूर्णतया उपलब्ध नहीं है। मीमांसक (१९९६:६८५) के अनुसार यह प्रभाचन्द्र प्रमेयकमलमार्तण्डकार से अभिन्न हैं। अभयनन्दी की वृत्ति का आधार लेकर १२वीं सदी में पण्डित महाचन्द्र ने लघुजैनेन्द्र नाम की एक वृत्ति लिखी है।जैनेन्द्र व्याकरण भी पाणिनि व्याकरण की तरह प्रक्रियाक्रम से व्यवस्थित नहीं है। श्रुतकीर्ति (१२२५ वि॰) ने इस व्याकरण पर पञ्चवस्तु नामक प्रक्रिया ग्रन्थ लिखा है। बीसवीं सदी के पण्डित वंशीधर ने भी इस पर जैनेन्द्रप्रक्रिया नामक प्रक्रियाग्रन्थ लिखा है।

जैनेन्द्र व्याकरण के दाक्षिणात्य संस्करण का नाम शब्दार्णव है तथा इसके संस्कर्ता गुणनन्दी (९१०–९६० वि॰) हैं। इस ग्रन्थ पर चन्द्रिका नाम की व्याख्या सोमदेवसूरि (सं॰११६२ वि॰) ने लिखी।मेघविजय कृत जैनेन्द्रव्याकरण वृत्ति  तथा विजयविमलकीर्ति कृत अनिट्कारिकावचूरि ग्रन्थ भी जैनेन्द्र व्याकरण से सम्बद्ध हैं।

जैनेन्द्र व्याकरण पाणिनीय व्याकरण के बहुत निकट है। यह निकटता इतनी अधिक है कि कई विद्वानों को भ्रम हो गया कि बाद के जैन विद्वानों ने पाणिनीय सूत्रों को अस्त व्यस्त कर यह कृत्रिम व्याकरण देवनन्दी के नाम पर चढ़ा दिया है[48]। “देवनन्दी ने अपनी पञ्चाध्यायी पाणिनि की अष्टाध्यायी के सूत्रक्रम में कम से कम फेरफार करके उसे जैसे का तैसा रहने दिया है। केवल सूत्रों के शब्दों में जहाँ–तहाँ परिवर्तन कर के सन्तोष कर लिया है”[49]। परन्तु यह कथन अतिशयोक्ति पूर्ण है। जैनेन्द्र व्याकरण में यत्र–तत्र मौलिकताओं के दर्शन भी होते हैं। देवनन्दी द्वारा किये गए पाणिनि के अनुकरण ने वस्तुतः पाणिनीय व्याकरण परम्परा की (विशेषकर गणपाठ की) अभूतपूर्व सुरक्षा की है।

वामन        

शाकटायन से पूर्व तथा जैनेन्द्र के बाद वामन नामक विद्वान् द्वारा रचित विश्रान्तिविद्याधर नाम के किसी व्याकरण का पता चलता है। मीमांसक (पृ॰६९०) के अनुसार इनका समय ६०० वि॰ है। वामन ने इस पर दो वृत्तियाँ भी लिखी थीं जो मूल सूत्रों की तरह ही इस समय उपलब्ध नहीं होता। इस पर मल्लवादी ने न्यास की रचना की थी जिसका अनेकशः उल्लेख हैम व्याकरण में मिलता है।

  शाकटायन

जैन मत के अन्तर्गत दिगम्बरों तथा श्वेताम्बरों के मध्यवर्ती यापनीय सम्प्रदाय से सम्बद्ध पाल्यकीर्ति नामक विद्वान् राजा अमोघवर्ष प्रथम के काल में वर्तमान थे। अमोघवर्ष के स्थितिकाल के आधार पर उनका समय ८७१ से ९२४ विक्रमी निश्चित होता है। “शाकटायन” इस गोत्र नाम से स्पष्ट है कि वे तैत्तिरीयशाखाध्यायी ब्राह्मणों के वंश में उत्पन्न हुए होंगे। गुस्ताव ओपर्ट ने १८९३ ईस्वी में शाकटायन शब्दानुशासन को प्रकाशित किया था। इसमें उन्होंने भ्रमवश जैन शाकटायन को पाणिनि पूर्ववर्ती शाकटायन से अभिन्न मान लिया था[50]। परन्तु वस्तुतः पाल्यकीर्ति शाकटायन का समय प्राचीन  शाकटायन से एक हज़ार से भी अधिक वर्षों के बाद का है।

शाकटायन व्याकरण में कुल चार अध्याय हैं जो चार–चार पादों में विभाजित हैं। इसमें कुल मिलाकर ३२३६ सूत्र हैं। शाकटायन के व्याकरण का प्रमुख आधार पाणिनि की अष्टाध्यायी है, जिसकी कमियों को उन्होंने अपने अन्य पूर्ववर्तियों जैसे चान्द्र, कातन्त्र तथा शाकटायन की सहायता से दूर करने का प्रयत्न किया है। साथ ही शाकटायन ने पूर्ववर्ती वैयाकरणों के दोषों को अपने व्याकरण में स्थान नहीं दिया है। उदाहरण के लिये उन्होंने देवनन्दी के द्वारा उपयुक्त एकाक्षरी संज्ञाओं को स्वीकार न करके अधिकांश संज्ञाएँ पाणिनि की अष्टाध्यायी से ही ग्रहण की हैं ।

शाकटायन का ग्रन्थ सम्पूर्ण व्याकरण वाङ्मय में प्रक्रियानुसारी प्रविधि का बीज–वपन करने वाला ग्रन्थ है। इसके पहले तक के व्याकरणों में सूत्रों को प्रक्रियानुसार व्यवस्थित नहीं किया गया था। एक उदाहरण से इसे समझा जा सकता है। अष्टाध्यायी में यदि समास सम्बन्धित कार्यों को देखें तो पता चलता है कि उससे सम्बन्धित सूत्र भिन्न–भिन्न अध्यायों में यत्र–तत्र बिखरे हुए हैं। जैसे, समास सम्बन्धी संज्ञाएँ पहले अध्याय में हैं, तो उसके विधायक सूत्र दूसरे अध्याय में तथा समासान्त प्रत्यय पाँचवें अध्याय के अन्त में हैं। समास सम्बन्धी स्वरों का विधान छठें अध्याय के दूसरे पाद में किया गया है। इस कारण अष्टाध्यायी पद्धति से पढ़ने वाले अध्येता को एक समास प्रकरण तब तक स्पष्ट नहीं हो सकता जब तक वह पूरी तरह से अष्टाध्यायी को आद्योपान्त पढ़ न ले। इस समस्या से मुक्ति के लिए शाकटायन ने समास सम्बन्धी सभी सूत्रों का पाठ एक ही प्रकरण में कर दिया है। दूसरे अध्याय के पहले पाद में समासविधान तथा एकवद्भाव आदि के नियमों को बताने के तुरन्त बाद समासान्त प्रत्ययों का विधान कर दिया गया है। दूसरे अध्याय के दूसरे पाद में समास के पूर्वपद की विभक्ति का अलुक् विधान वर्णित है।  मीमांसक (१९९४:६९८) के अनुसार पाणिनीय तन्त्र में प्रक्रिया की परम्परा को प्रोत्साहित करने वाला ग्रन्थ यही है–“उत्तरकाल में इसने परिवृद्ध होकर पाणिनीय व्याकरण पर भी ऐसा आघात किया कि समस्त पाणिनीय व्याकरण ग्रन्थकर्तृक्रम की उपेक्षा करके प्रक्रियानुसारी बना दिया गया। उससे पाणिनीय व्याकरण अत्यन्त दुरूह हो गया।

अन्यान्य प्रकरणों में भी शाकटायन ने अपनी प्रक्रिया सम्बन्धी दृष्टि का उपयोग किया है। उदाहरण के लिए पाणिनीय व्याकरण में कारक प्रकरण १.४ में है जबकि विभक्ति प्रकरण २.३ में है[51]। शाकटायन ने इन दोनों प्रकरणों को मिलाकर एक जगह (१.३.९७ से १.३.१९५ तक) रख दिया है। इससे अध्येताओं को पर्याप्त सुविधा हो गयी है।

अपने से पूर्व तमाम व्याकरणों के उपयोगी वचनों को सूत्रपाठ में संगृहीत कर लेना शाकटायन व्याकरण की बड़ी विशेषता है[52]। वार्तिकों के अतिरिक्त उन्होंने महाभाष्य की सभी इष्टियों तथा उसके लगभग ३५ अन्य वचनों को सूत्र रूप में  समाहित कर लिया है। पाल्यकीर्ति काशिकाकार वामन जयादित्य के बाद उत्पन्न हुए थे। काशिका की रचना पाणिनीय व्याकरण परम्परा के लिए अत्यन्त महत्त्वपूर्ण घटना है। काशिकार ने अपने समय के अनेक ऐसे विचारों को भी ग्रन्थ में स्थान दिया था जो वस्तुतः त्रिमुनि में भी नहीं मिलते। इन वचनों को महत्त्वपूर्ण मानते हुए पाल्यकीर्ति ने काशिकावृत्ति के प्रायः ४०वचनों को सूत्र रूप में उपन्यस्त किया है।

इष्टि, वक्तव्य आदि अनेक प्रकारों में विकसित पाणिनीय शास्त्र की व्याख्याओं को पाल्यकीर्ति ने अपने सूत्रों में ही समाहित कर लिया है। लेकिन उन्होंने केवल सिद्धान्तों का संग्रह मात्र नहीं किया है बल्कि उनके व्याकरण में पर्याप्त मौलिकताएँ भी हैं। गणपाठ के व्याख्यान में भी उन्होंने पर्याप्त नवीनता दिखायी है (देखिये मीमांसक २००० : १८४–१८६)। उदाहरण के लिए उन्होंने छोटे गणों को सूत्रों में ही पढ़ दिया है। गणों के नाम छोटे कर दिये हैं। अनेक गणों का एकीकरण कर दिया है तथा गणसूत्रों को सूत्रपाठ में स्थान दे दिया है। इस दृष्टि से शाकटायन भोजराज के मार्ग दर्शक हैं। ज्ञातव्य है कि भोजदेव ने सम्पूर्ण गणपाठ तथा उणादिसूत्रों को सूत्रपाठ में पढ़ दिया है। प्रत्याहार सूत्रों में लृकार का पाठ नहीं है। हयवरट् तथा लण् को एक सूत्र में पढ़कर १३ सूत्रों में ही काम चला लिया गया है। श,ष, स के बाद विसर्ग, जिह्वामूलीय तथा उपध्मानीय का पाठ भी १२वें सूत्र में कर दिया गया है। पाणिनि के अनुसार अनेक संज्ञाओं का प्रयोग करते हुए भी इन्होंने अनेकत्र मौलिकता दिखायी है। उदाहरण के लिये इन्होंने अङ्ग के लिये प्रकृति शब्द का प्रयोग किया है। इन प्रयोगों से व्याकरण के अवगमन में सरलता हो गयी है।

पञ्चाङ्ग व्याकरण के अतिरिक्त पाल्यकीर्ति ने उपसर्गार्थ तथा तद्धितसंग्रह भी लिखा था। सर्वाङ्गपूर्ण व्याकरण की रचना के साथ उन्होंने अपने व्याकरण पर अमोघा नामक वृत्ति की रचना भी की है। यह नाम उन्होंने अपने आश्रयदाता अमोघवर्ष के नाम पर रखा है। यह काशिकावृत्ति की शैली में लिखा गया ग्रन्थ है। इस वृत्ति पर प्रभाचन्द्र ने एक न्यास लिखा था जिसके केवल दो ही अध्याय उपलब्ध होते हैं। यक्षवर्मा ने अमोघा वृत्ति का संक्षेपण चिन्तामणि नाम से किया है। इस संस्करण पर उपलब्ध व्याख्याओं से पता चलता है कि यह निश्चित रूप से बहुत प्रसिद्ध हुआ होगा। इस पर अजितसेनाचार्य की चिन्तामणिप्रकाशिका, मंगारस की चिन्तामणिप्रतिपद तथा समन्तभद्र की चिन्तामणिविषमपद नाम की व्याख्या प्रसिद्ध है। इन सभी विद्वानों के देश और काल अज्ञात हैं।

१४वीं सदी के पूर्वार्ध में विद्यमान अभयचन्द्राचार्य ने शाकटायन के कुछ सूत्रों को लेकर प्रक्रियासंग्रह नामक ग्रन्थ की रचना की। भावसेन त्रैविद्य ने प्रक्रियानुसारी शाकटायन टीका की रचना की। दयालपाल मुनि (१०८२ वि॰) ने रूपसिद्धि नामक शाकटायन प्रक्रिया ग्रन्थ का निर्माण किया।

बुद्धिसागर सूरि–

श्वेताम्बर जैन बुद्धिसागर सूरि ने जिस व्याकरण की रचना की थी उसका नाम भी बुद्धिसागर अथवा पञ्चग्रन्थी व्याकरण है। बुद्धिसागर का समय १०८० विक्रमी संवत् है। इसकी रचना उन्होंने ब्राह्मणों के आक्षेप से क्षुब्ध होकर की थी। यह व्याकरण पूर्णतः पद्यमय है जिसमें काव्यप्रकाश इत्यादि की भाँति सूत्रों में तोड़कर व्याख्या की गयी है। पद्यमयता की दृष्टि से यह पहला व्याकरण ग्रन्थ है। इसमें न केवल सूत्र अपितु खिलपाठ भी पद्य में निबद्ध हैं। ग्रन्थ में २०७ पद्य तथा १९२२ सूत्र हैं जो चार अध्यायों तथा १२ पादों में निबद्ध है। पद्यमय व्याकरण बनाने का प्रयोजन, ग्रन्थकार के अनुसार, लोगों को रुचि पूर्वक इसकी ओर प्रवृत्त करना है–

श्रोतृजनप्रवृत्त्यर्थं सश्लोकं प्रोक्तवानहम्।१.१.२॥[53]

इसके साथ इसमें ग्रन्थकार ने स्वोपज्ञ व्याख्या भी जोड़ी है। खिलपाठ भी ग्रन्थ के अन्तर्गत ही हैं। पद्यात्मक होने के कारण प्रत्याहारादि कई अन्य सामग्री को सूत्र में न रखकर सूत्रों की व्याख्या के अन्तर्गत ही डाल दी गयी हैं ताकि उन्हें समझने में भ्रम न हो। वे स्वयं कहते हैं–

अचालिताः प्रतीतार्थाः प्रत्याहाराश्चिरन्तनाः।

कृताः पद्या न चामीषामसन्देहार्थं तथा च ते॥१.१.३॥[54]

बुद्धिसागर सूरि ने पाणिनि, जैनेन्द्र तथा शाकटायन के द्वारा उपयुक्त संज्ञाओं के साथ व्यवहार किया गया है तथापि कई स्थान पर इनमें मौलिकता के दर्शन भी होते हैं।

 

भद्रेश्वर सूरि –

भद्रेश्वर सूरि का समय १२०० विक्रम से पूर्व है। इन्होंने दीपक नामक व्याकरण की रचना की थी। ११९७ वि॰ में विद्यमान वर्धमान ने अपने गणरत्न महोदधि में इनका दो बार उल्लेख किया है। परन्तु यह ग्रन्थ अब उपलब्ध नहीं होता।

हेमचन्द्रसूरि (१०८८ई॰–११७३ ई॰)

कलिकालसर्वज्ञ हेमचन्द्रसूरि निश्चित रूप से जैन वैयाकरणों में शीर्ष पर हैं। उनका व्याकरण परिपूर्ण तथा बृहत्तम है। हेमचन्द्र का जन्म वर्ष १०८८ ई॰ निश्चित किया गया है। इनका जन्म वैश्य परिवार में हुआ था। बचपन में ही चन्द्रेश्वर सूरि नामक जैन संन्यासी उन्हें अपने साथ ले गये। १२ वर्ष की अवस्था में ही हेमचन्द्र सभी विद्याओं में पारंगत हो गये तथा उन्हें सूरि की पदवी प्राप्त हुई। अण्हिलपाटन के राजा सिद्धराज जयसिंह तथा उसके पुत्र राजा कुमारपाल के आश्रय में रहकर हेमचन्द्र ने विविध ग्रन्थों की रचना की।

प्रभावक चरित में कथा आयी है कि एक बार अवन्ति देश से प्राप्त पुस्तकों को देखते हुए सिद्धराज जयसिंह ने  भोजराज रचित सरस्वतीकण्ठाभरण नामक व्याकरण ग्रन्थ भी देखा। इससे प्रभावित होकर राजा ने हेमचन्द्र से एक सरल तथा परिपूर्ण व्याकरण की रचना करने की प्रार्थना की जिसमें संस्कृत के अतिरिक्त प्राकृतादि लोकभाषाओं का भी अनुशासन हो। हेमचन्द्र ने यह प्रस्ताव स्वीकार कर लिया। इसके लिए कश्मीर से आठों व्याकरणों के ग्रन्थ गुजरात लाये गए। इन ग्रन्थों का अवलोकन करके हेमचन्द्र ने सर्वाङ्गपूर्ण व्याकरण की रचना की। सिद्धराज ने भी उसकी प्रतियाँ कराकर देश देशान्तर में उसका प्रसार कराया[55]

हेमचन्द्र के समय तक पाणिनीय व्याकरण अपनी सारी जटिलताओं के साथ पूर्णतः विकसित होकर एक शास्त्रीय पद्धति का रूप धारण कर चुका था। अब यह संस्कृत सीखने का एक साधन मात्र नहीं था बल्कि इसका अध्ययन भी अपने आप में साध्य बनता जा रहा था (Sharma–1990)। ऐसी स्थिति में हेमचन्द्र ने एक सरल तथा सुस्पष्ट एवं परिपूर्ण व्याकरण की आवश्यकता का अनुभव किया तथा सिद्धहेमशब्दानुशासन का प्रणयन किया। हेमचन्द्र ने प्राकृतव्याकरण को संस्कृतव्याकरण के साथ सम्मिलित करके भारत की भाषिक परम्परा की एकता तथा अविच्छिन्नता को उसी प्रकार निदर्शित किया जैसे पाणिनि ने कभी संस्कृत के वैदिक तथा लौकिक दोनों रूपों को एक साथ रखकर किया था। यद्यपि दोनों विद्वानों की विवेचन शैली में पर्याप्त पार्थक्य दिखायी देता है।

हेमचन्द्र ने व्याकरण पर विपुल साहित्य की रचना की तथा उसमें किसी भी तरह की न्यूनता का अवकाश नहीं रखा। जो कार्य पाणिनि, भट्टिस्वामी तथा भट्टोजि दीक्षित ने मिलकर किया वह अकेले हेमचन्द्र ने कर दिखाया। उन्होंने व्याकरण के अन्तर्गत सूत्र प्रणयन, व्याख्यान तथा शास्त्र काव्य का निर्माण भी किया। अपने अनेकविध ग्रन्थों की रचना करके उन्होंने अपनी प्रणाली को अत्यन्त सुदृढ बना दिया। अपने अन्यान्य शास्त्रीय ग्रन्थों की वृत्तियों में सर्वत्र उन्होंने अपने व्याकरण के सूत्रों के ही सन्दर्भ दिये हैं।

हैमव्याकरण में कुल ८ अध्याय ३२ पाद तथा ५५०२ सूत्र हैं। इसके प्रारम्भिक सात अध्यायों में संस्कृत का व्याकरण है जबकि आठवें में प्राकृत तथा अपभ्रंश भाषाओं को अनुशासित किया गया है। ग्रन्थ में संस्कृत से संबद्ध सूत्रों की संख्या ३५६६ है।

हैम व्याकरण में प्रत्याहारों का उपयोग नहीं किया गया है। हेमचन्द्र यह कार्य आश्चर्यजनक रूप से अपनी अन्वर्थ संज्ञाओं के द्वारा कर लेते हैं। इस दृष्टि से उनकी शैली पाणिनि की अपेक्षा लघु तथा सरल हो गयी है। उदाहरण के लिये उन्होंने अच् प्रत्याहार की जगह स्वर तथा एच् की जगह सन्ध्यक्षर शब्दों का प्रयोग किया है। ये प्रयोग झटिति अर्थ प्रदान कर देते हैं क्योंकि लोक में भी उनका इसी तरह प्रयोग होता है। इसी प्रकार उन्होंने लट्, लृट्, लुट् आदि संकेतात्मक आख्यात संज्ञाओं की अपेक्षा अधिक सरल तथा स्वतःव्याख्यात शब्दों, जैसे अद्यतनी, ह्यस्तनी, श्वस्तनी, भविष्यन्ती आदि का प्रयोग किया है। यह प्रवृत्ति उन्होंने कातन्त्र व्याकरण से ली है। अन्यत्र भी वे पाणिनीय व्याकरण की जटिल संज्ञाओं को यथासम्भव भिन्न तथा सरलतर शब्दों के साथ बदल देते हैं। उदाहरण के लिये प्रकृतिभाव के लिये उन्होंने असन्धि शब्द का प्रयोग किया है। कहीं–कहीं हेमचन्द्र ने संज्ञा का प्रयोग किये बिना सीधे संज्ञियों के उपयोग से काम कर लिया है, जैसे– वृद्धि सन्धि में वृद्धि आदि शब्दों के प्रयोग के बिना ही कार्य चला लिया गया है। इस विधि के लिये उन्होंने सूत्र बनाया है– ऐदौत् सन्ध्यक्षरैः (हेम॰ १.२.११)। इन तकनीकों के उपयोग से हेमचन्द्र पाणिनि व्याकरण की ढेर सारी पेंचीदगियों से बच पाये हैं।

हेमचन्द्र ने शाकटायन के द्वारा प्रारब्ध प्रकरणानुसारी शैली को और आगे बढ़ाया है। इनके व्याकरण में प्रकरणबद्धता और अधिक स्पष्ट हो गयी है।  इस व्याकरण में स्थित प्रकरणों के नाम हैं–संज्ञा, सन्धि, नाम, कारक, षत्व, स्त्रीप्रत्यय, समास, आख्यात, कृदन्त और तद्धित। भट्टोजिदीक्षित तथा उनके पूर्ववर्ती पाणिनीय प्रक्रियाकारों को अपने प्रकरणों के व्यवस्थापन की प्रेरणा सम्भवतः यहीं से मिली होगी (Sharma-24)। कारक, वाक्य आदि की परिभाषायें देकर हेमचन्द्र ने पाणिनीय तन्त्र की कमी दूर करने का प्रयत्न किया है। हेमचन्द्र शाकटायन के शब्दानुशासन तथा उनकी अमोघा वृत्ति से बहुत ही प्रभावित हैं। शाकटायन के प्रति उनकी श्रद्धा का द्योतक उनके द्वारा दिया गया उदाहरण– आकुमारं यशः शाकटायनस्य (शाकटायन का यश बच्चे बच्चे तक व्याप्त है) है। बेल्वल्कर ने हेमचन्द्र पर शाकटायन के अन्धानुकरण का आरोप लगाया है[56] जिसका प्रत्युत्तर मीमांसक (२०००: १९०) ने हेमचन्द्र के शास्त्र में विद्यमान मौलिकताओं की ओर संकेत करके दे दिया है।

हैम व्याकरण सर्वाङ्गपूर्ण है। इनके धातुपाठ में जुहोत्यादि का पृथक् पाठ न होने के कारण इसमें काशकृत्स्न धातुपाठ की तरह केवल ९ ही गण हैं। इस पर स्वयं हेमचन्द्र ने धातुपारायण नामक विस्तृत व्याख्या तथा धातुपारायण संक्षेप नामक लघु व्याख्या भी लिखी है। सं॰ १४६६ में वर्तमान आचार्य गुणरत्न सूरि ने हैमधातुपाठ पर क्रियारत्नसमुच्चय नाम की व्याख्या लिखी है। इस ग्रन्थ में क्रियारूपों से सम्बन्धित अनेक अदृष्टपूर्व मतों का उल्लेख मिलता है जिसके कारण इस ग्रन्थ का महत्त्व बहुत ही बढ़ जाता है। हैम धातुपाठ पर जयवीर गणि नामक विद्वान् ने अवचूरि नामक व्याख्या लिखी है। इनका काल १५०१ वि॰ है। १६वीं शताब्दी वि॰ में विद्यमान हर्षकुलगणि ने हैम धातुपाठ को पद्यबद्ध किया है जिसका नाम कविकल्पद्रुम है। इसपर उन्होंने धातुचिन्तामणि नाम की स्वोपज्ञ टीका भी लिखी है।

गणपाठ के प्रसङ्ग में हेमचन्द्र ने पाल्यकीर्ति का अनुकरण करते हुए भी अनेक मौलिक प्रविधियाँ अपनायीं हैं। इनमें नये गणों का निर्माण, गणों के नामों में परिवर्तन तथा गणों के नये विभाग सम्मिलित हैं। गणों में पाठान्तरों को सम्मिलित करना उनकी रचना शैली के वैज्ञानिक उपागम का द्योतक है।

हेमचन्द्र का उणादिपाठ उपलब्ध सभी उणादि पाठों में सबसे अधिक विस्तृत है। इसमें १००६ सूत्र हैं तथा साथ में इसकी स्वोपज्ञ विवृति भी है। इनका लिङ्गानुशासन भी सबसे विस्तृत है। इसमें १३८ अत्यन्त ललित पद्य हैं जिन पर स्वयं ग्रन्थकार का विवरण (या वृत्ति) प्राप्त होता है। इसके अतिरिक्त इस पर १३वीं शती के कनकप्रभ ने अवचूरि, केसरविजय ने वृत्ति, तथा वल्लभगणि ने दुर्गपदप्रबोधा नामक व्याख्यायें लिखीं हैं।

हेमचन्द्राचार्य की परिभाषावृत्ति अत्यन्त संक्षिप्त है जिसमें केवल ५७ परिभाषायें ही प्राप्त हैं। इसके व्याख्याकार हेमहंसगणि ने  मूल परिभाषाओं की व्याख्या के बाद ८४ अन्य परिभाषाओं तथा वचनों का संग्रह करके इसे पूर्णता प्रदान की है। इसका नाम उन्होंने न्यायसंग्रह रखा है। इस पर इनकी न्यायमञ्जूषा व्याख्या नामक बृहद्वृत्ति तथा वृत्ति पर स्वोपज्ञ न्यास भी उपलब्ध है। परिभाषा सम्बन्धी वाङ्मय में सीरदेव के ग्रन्थ बृहत्परिभाषावृत्ति के बाद सबसे विशद तथा पाण्डित्यपूर्ण ग्रन्थ न्यायसंग्रह ही है।  इनका समय १५१५ वि॰ वर्ष है। न्यायसंग्रह पर विजयलावण्य मुनि ने न्यायार्थसिन्धु नामक व्याख्या तथा पुनः उसपर तरङ्ग नामक टीका लिखी है। इसका लेखन काल २०१० वि॰ वर्ष है।

हैमव्याकरण पर १७१० वि॰ में विनयविजयगणि ने हैमलघुप्रक्रिया नाम से प्रक्रिया ग्रन्थ का निर्माण किया है। बीसवीं सदी के विद्वान् मायाशंकर गिरिजाशंकर ने लघुप्रक्रिया के क्रम को ध्यान में रखकर बृहत्प्रक्रिया का निर्माण किया है। १७९७ में लघुप्रक्रिया पर बृहन्न्यास की रचना की जिसे हैमप्रकाश भी कहा जाता है। उपाध्याय मेघविजय ने १७५७ वि॰ में सिद्धान्तकौमुदी के क्रम से हेमचन्द्र के सूत्रों को सजाकर चन्द्रप्रभा अथवा हेमकौमुदी की रचना की। तेरापन्थ के मुनि सोहनलाल जी ने इसपर तुलसीप्रभा नामक प्रक्रिया का निर्माण किया। इसका निर्माण काल १९९६ से १९९९ वि॰सं॰ है। इसके अध्ययन से विद्यार्थी को जैन इतिहास, आगम, जैन तत्त्व तथा तेरापन्थ की परम्परा का भी बोध हो जाता है। इन ग्रन्थों के अतिरिक्त भी हैमव्याकरण पर आधारित प्रक्रियात्मक ग्रन्थों की सूची पर्याप्त समृद्ध है (दे॰ शाह १९६९ :४२–४९)।

वर्धमान (११५०–१२२५ वि॰)

गणपाठ की व्याख्या से सम्बन्धित वर्धमान रचित गणरत्नमहोदधि नामक ग्रन्थ व्याकरण निकाय में बहुत प्रसिद्ध है। संक्षिप्तसारव्याकरण की गोयीचन्द्र की टीका में वर्धमान के एक सूत्र का उल्लेख है जिससे पता चलता है कि इनका स्वतन्त्र सूत्रात्मक व्याकरण ग्रन्थ भी रहा होगा जो अब उपलब्ध नहीं होता। गणकार के रूप में वर्धमान की महत्ता सर्वाधिक है। इनका ग्रन्थ गणरत्नमहोदधि पद्यात्मक है जिसपर इन्होंने स्वयं विस्तृत व्याख्या लिखी है। अपने पूर्ववर्ती १६ वैयाकरणों का नामशः उल्लेख करके उन्होंने व्याकरण शास्त्र के इतिहास में बड़ा योगदान दिया है। अपने पूर्व के सभी वैयाकरणों के गणों को उन्होंने अपने ग्रन्थ में स्थान दिया है। पाणिनीय गण पाठ के अध्ययन तथा शब्दों के पाठभेद और प्रयोग ज्ञान के लिये भी एकमात्र साधन वर्धमान का गणरत्नमहोदधि ही है।

मलयगिरि (११८८–१२५० वि॰)–

मलयगिरि के ग्रन्थ का नाम शब्दानुशासन है। इस व्याकरण की बृहत् कल्पवृत्ति को पूर्ण करने वाले व्याख्याकार क्षेमकीर्ति ने इस व्याकरण को मुष्टिव्याकरण[57] भी कहा है। मलयगिरि वैदिक संन्यासी थे तथा प्रव्रज्या के ७ वर्षों के बाद ये जैन साधु बन गये थे। यह तथ्य उनके नाम के अन्त में प्राप्त गिरि शब्द से पता चलता है। श्री दोशी (१९६७: Intro.p.5) ने दिखाया है कि मलयगिरि ने जिन गुजराती शब्दों के संस्कृत रूप प्रस्तुत किये हैं वे केवल सौराष्ट्र प्रान्त में ही बोले जाते हैं। इस आन्तरिक साक्ष्य के आधार पर उन्होंने अनुमान किया है कि वे सौराष्ट्र प्रान्त के निवासी थे।  कुमारपाल तथा हेमचन्द्र[58] के समय में विद्यमान होने के कारण इनका काल निश्चित ही है। इनके व्याकरण में शाकटायन तथा हेमचन्द्र के व्याकरणों से काफ़ी साम्य है तथापि कहीं कहीं वे हेमचन्द्र से मतभेद भी रखते हैं। अन्तःसाक्ष्य बताते हैं कि उन्होंने हैमशब्दानुशासन देख रखा था[59]। उन्होंने शाकटायन का अपने व्याकरण में २ बार तथा अपनी वृत्ति में ५ बार उल्लेख किया है। अपनी प्रज्ञापना वृत्ति में उन्होंने आचार्य चन्द्रगोमी के चान्द्रव्याकरण का उल्लेख भी किया है (दोशी १९६७: Intro.p.९)।

मलयगिरि का शब्दानुशासन प्रक्रियानुसारी है। यह व्याकरण अन्यान्य व्याकरणों की तरह अध्यायों में विभाजित न होकर पादों में विभक्त है, जिनकी कुल संख्या ३६ है[60]। इसमें कुल २२१० सूत्र हैं। इस  व्याकरण में सन्धि, नाम, आख्यात, कृदन्त तथा तद्धित पाँच प्रकरण हैं। इनके सूत्र पूर्णतः उपलब्ध नहीं होते। सूत्रकार ने स्वयं इस पर वृत्ति लिखी थी जो ग्रन्थ के साथ ही प्रकाशित है। उन्होंने धातुपारायण, गणपाठ तथा तथा लिङ्गानुशासन की रचना भी की थी जो अब उपलब्ध नहीं होते। विद्वानों का मत है कि अपने व्याख्या ग्रन्थों में अपने ही व्याकरण से सूत्रों को उद्धृत करने के आग्रह के कारण मलयगिरि ने शब्दानुशासन की रचना की। ध्यातव्य है कि मलयगिरि जैनमत के ९ आगमों पर व्याख्याएँ (वृत्तियों) के प्रणयन के कारण भी बहुत अधिक प्रसिद्ध हैं। इसके अतिरिक्ति इन्होंने हरिभद्र सूरि आदि विद्वानों के ग्रन्थों पर भी व्याख्याएँ प्रणीत कीं।

मलयगिरि ने प्रत्याहारों के सम्बन्ध में पाणिनि तथा हेमचन्द्र दोनों आचार्यों की प्रविधियों को मिश्रित कर दिया है। वे हेमचन्द्र की भाँति स्वर तथा व्यञ्जन इत्यादि संज्ञाओं तथा पाणिनि की भाँति एच्, इक् आदि प्रत्याहारों, दोनों का उपयोग करते हैं। हेमचन्द्र की तरह इन्होंने भी प्रत्याहारसूत्रों का पाठ न करके वर्ण ज्ञान के लिए लोक को प्रमाण माना है[61] तथा लोक प्रसिद्ध मातृका का ही पाठ कर दिया है। लेकिन उन्होंने प्रत्याहार सूत्रों के पाठ के बिना भी इक् आदि संज्ञाओं का उपयोग कर लिया है। उनकी यह प्रविधि आश्चर्यजनक है। उदाहरण के लिए मलयगिरि ने सूत्र बनाया है– इक् एतः (१.६), अर्थात् ए से पहले के स्वरों को इक् कहते हैं। इस सूत्र में पिछले अनवर्णा नामी (१.५) सूत्र से अनवर्णाः पद की अनुवृत्ति आती है। अतः सूत्रार्थ निष्पन्न होता है– ‘अवर्ण से रहित ए से पहले तक के स्वरों= इ,उ,ऋ, ॠ, लृ, ॡ को इक् कहते हैं’। ध्यातव्य है कि हेमचन्द्र ने इक् जैसी कोई संज्ञा नहीं बनायी है। जहाँ–जहाँ पाणिनि व्याकरण में इक् का प्रयोग आता है वहाँ–वहाँ वे दो प्रकारों से कार्य करते हैं। पहला प्रकार तो यह है कि वे इक् में गृहीत वर्णों को प्रत्यक्षतः पढ़ देते हैं–जैसे इ,उ,ऋ=य्वृ। उदाहरण के लिए पाणिनि के इगन्ताच्च लघुपूर्वात् (अष्टा॰ ५.१.१३०) की जगह वे य्वृवर्णाल्लघ्वादेः (सिद्धहैम॰ ७.१.६९) पढ़ देते हैं। दूसरा प्रकार यह है कि इक् के स्थलों पर वे नामी संज्ञा का प्रयोग करते हैं। हेमचन्द्र अ को छोड़कर सभी स्वरों को नामी कहते हैं। लेकिन इसमें ए–ऐ तथा ओ–औ ये चार अवाञ्छित वर्ण भी आ जाते हैं जो इक् में नहीं होने चाहिए। इसलिए इक् के लिए नामी संज्ञा का प्रयोग हेमचन्द्र वहीं करते हैं जहाँ–जहाँ इन चार वर्णों की प्रसक्ति असम्भव हो। लेकिन इस प्रविधि को स्वीकार करने से पर्याप्त प्रक्रिया गौरव होता है।  मलयगिरि ने इसका असुविधा अनुभव किया होगा। इसलिए उन्होंने हेमचन्द्र की प्रविधि का आंशिक समर्थन करते हुए, प्रत्याहार पाठ के बिना भी यथावसर पाणिनीय प्रत्याहारसूत्रों से निष्पन्न संज्ञा का उपयोग किया। इसी प्रकार मलयगिरि अण् के लिए ऋतः अण् (१.८), एच् के लिए एदादिः एच् (१.९) तथा एङ् के लिए ए–ओ एङ् (१.१०) सूत्रों का पाठ करते हैं। हेमचन्द्र इन सारे स्थलों पर प्रायः प्रत्यक्ष वर्णों का पाठ करके कार्य का निष्पादन करते हैं[62]

सारे प्रसिद्ध जैन वैयाकरणों के मध्य आचार्य मलयगिरि की विशिष्टता एक ख़ास तरह के प्रक्रिया सौकर्य के कारण भी है। उन्होंने युष्मद् तथा अस्मद् के रूपों की सिद्धि का प्रयास न करके उसे प्रत्यक्षतः निपातित कर दिया है। इसके लिए उन्होंने ४.३३ से लेकर ४.५५ तक के सूत्रों का पाठ किया है। ध्यातव्य है कि उनके पहले जैनेन्द्र (५.१.२३ से ५.१.२९) शाकटायन (१.२.१७७ से १.२.२०२) तथा हेमचन्द्र (२.१.६ से २.१.३२) सभी जैन वैयाकरणों ने पाणिनि की भाँति युष्मद–अस्मद् शब्दों की प्रक्रिया देने का यत्न किया है[63]। व्याकरण के अध्येताओं को इन विचित्र शब्दों के व्युत्पादन की श्रमसाध्यता स्पष्ट ही है। इसके लिए मलयगिरि के द्वारा स्वीकृत सरल मार्ग निश्चित रूप से अभिनन्दनीय है।

विनयसागर उपाध्याय (१६५०–१७०० वि॰)

विनयसागर ने अपने आश्रयदाता भुजनगर के राजा भोज को प्रसन्न करने के लिये भोजव्याकरण नामक  ग्रन्थ लिखा था।

सकलसमीहिततरणं हरणं दुःखस्य कोविदाभरणम्।

श्रीभोजव्याकरणं पठन्तु तस्मात् प्रयत्नेन ॥

सहजकीर्तिगणि (१६८० वि॰)

रत्नसारके शिष्य सहजकीर्तिगणि ने शब्दार्णव नामक व्याकरण की रचना की है जो अत्यन्त ही सरल शैली में है। इसमें कुल १० अधिकार हैं– संज्ञा, श्लेष, शब्द, षत्व–णत्व, कारकसंग्रह, समास, स्त्री प्रत्यय, तद्धित, कृत् तथा धातु। स्वयं सूत्रकार ने इसपर मनोरमा नामक वृत्ति की रचना की है।

 

मुनिश्री चौथमल एवं पण्डित रघुनन्दन शर्मा  (२०वीं शताब्दी)

तेरापन्थ धर्मसंघ के अष्टमाचार्य कालूगणि के शिष्य चौथमल ने अपने गुरु की इच्छा की पूर्ति के लिये सभी पूर्ववर्ती व्याकरणों का गहन अध्ययन करके १९८० से १९८८ विक्रमसंवत् के मध्य एक नवीन व्याकरण की व्यवस्था की। यह वस्तुतः “विशालशब्दानुशासन” नामक किसी पूर्ववर्ती व्याकरण ग्रन्थ का परिशोधित एवं परिवर्धित रूप है। तेरापन्थ में संस्कृत के महान् उन्नायक आचार्य कालूगणि ने अपने अध्यापन के क्रम में सारस्वत, चन्द्रिका, आदि व्याकरणों की अपूर्णता का अनुभव किया। इस अपूर्ण ग्रन्थ को उन्होंने सारकौमुदी के अनुसार पूरा करने का भरसक प्रयास किया पर उन्हें पूरी सफलता नहीं मिली। इसके बाद उन्हें विशालकीर्ति गणि द्वारा निर्मित “विशालशब्दानुशासनम्” उपलब्ध हुआ[64]। इस शब्दानुशासन को मुनि चम्पालाल मीठिया ने भाद्रा से आचार्यचरण को उपलब्ध कराया था[65]। ८ अध्यायों में परिसमाप्त इस व्याकरण में केवल सूत्र ही थे। आचार्य कालूगणि के निर्देशानुसार इस व्याकरण के सूत्रों पर बृहद् वृत्ति की रचना अलीगढ़ निवासी पं॰ रघुनन्दन शर्मा ने की। यह कार्य उन्होंने अष्टाध्यायी, सिद्धान्तकौमुदी, सारकौमुदी, सारस्वत, सिद्धान्तचन्द्रिका, हेमशब्दानुशासन आदि अनेक ग्रन्थों के गहन अध्ययन से परिपूर्ण किया। यह वृत्ति अत्यन्त विशद होने के साथ साथ उदाहरणों की दृष्टि से प्रायः असाम्प्रदायिक है। इस कार्य में मुनि चौथमल ने उनका सहयोग किया। इन पर्याप्त परिवर्तनों तथा संशोधनों से विशालशब्दानुशासन का मूल रूप बहुत परिवर्तित हो गया। अब इसका नाम तेरापन्थ के आदि प्रवर्तक आचार्यश्री भिक्षुस्वामी के नाम पर “श्रीभिक्षुशब्दानुशासन” रख दिया गया। ८ अध्यायों में विभक्त इस व्याकरण में कुल ३७४६ सूत्र हैं। अध्यायों के चतुर्थ भागों को पाद न कह कर चरण कहा गया है। यह व्याकरण अपने आप में पूर्ण है। सूत्रों के अतिरिक्त यह व्याकरण लघु तथा बृहद् वृत्ति एवं खिलपाठ तथा कारिकासंग्रह आदि से संवलित है।

इस व्याकरण पर लघु वृत्ति की रचना का प्रारम्भ मुनि तुलसीराम ने किया था जिसे बाद में मुनि युगल धनराजजी तथा चन्दनमलजी ने पूरा किया। इसका रचनाकाल वि॰ सं॰ १९९५ है। इस लघुवृत्ति की रचना उपर्युक्त बृहद्वृत्ति के संक्षिप्त संस्करण के रूप में सामान्य जन के उपयोग हेतु की गयी थी। जैसा कि ग्रन्थकार का कथन है–

बृहद्वृत्ति समालोक्य भैक्षुशब्दानुशासनीम्।

शीघ्रोपकारिणी श्रेष्ठा लघ्वी वृत्तिर्विरच्यते॥

इस व्याकरण के लिए उपयोगी परिभाषाओं से सम्बन्धित एक “भिक्षुन्यायदर्पण” नाम का ग्रन्थ भी तैयार कराया गया है। इसकी बृहद्वृत्ति स्वयं सूत्रकार ने लिखी है। इसमें १३५ सूत्र हैं। इस व्याकरण का अपना स्वतन्त्र लिङ्गानुशासन भी है जिसका नाम “भिक्षुलिंगानुशासन” है। १५७ छन्दों का प्रयोग करते हुए रघुनन्दन शर्मा जी ने इसे परिपूर्ण किया है। इस पर मुनि चन्दनमल ने वृत्ति की रचना कर के इसे सुबोध बना दिया है। मुनि चौथमल ने इस व्याकरण की प्रक्रिया से सम्बन्धित “कालूकौमुदी” नामक ग्रन्थ का प्रणयन किया जिसमें कुल मिला कर १४२७ सूत्र हैं। इस व्याकरण का स्वतन्त्र उणादि पाठ भी है जिसका नाम “भिक्षूणादिवृत्ति” है। इस व्याकरण का क्रम सारस्वत आदि व्याकरणों की तरह सरल तथा स्वरूप पाणिनीय व्याकरण की तरह व्यवस्थित है। विद्वानों के अनुसार अब तक प्रणीत व्याकरणों के मध्य भिक्षुशब्दानुशासन सरलतम पद्धति का प्रकाश करने वाला ग्रन्थ है[66]। ग्रन्थान्त में प्रस्तुत प्रशस्ति श्लोक के अनुसार इसकी विशिष्टताएँ निम्नवत् हैं–

सरससरलसूत्रं निर्विवादं वरेण्यं सदयहृदयसेव्यं स्वल्पकालाभिलभ्यम्।

निजविषयविशेषं भैक्षवं शब्दशास्त्रं जयतु जगति नित्यं साधुसाध्यं तदेतत्॥ (पृ॰ ६४९)

श्रीभिक्षुशब्दानुशासन पर सूत्रों की आनुपूर्वी से सम्बन्धित सर्वाधिक प्रभाव हेमचन्द्र के सिद्धहैमशब्दानुशासन का है। इस व्याकरण में प्रत्याहारों के निर्माण के लिए अनुबन्ध से रहित केवल एक सूत्र का प्रणयन किया गया है[67], पाणिनि की भाँति १४ सूत्रों का नहीं। भिक्षुशब्दानुशासन में गणों के ज्ञान के लिये धातुओं में अनुबन्ध लगाये गये हैं। सेट् अनिट् का ज्ञान बहुत ही सरलता से अनुबन्धों के माध्यम से कराया गया है। सरलता की दृष्टि से कई पारम्परिक संज्ञाओं के नये स्पष्ट नामान्तर भी प्रस्तुत किये गये हैं। उदाहरण के लिए करण कारक को साधन[68] तथा सम्प्रदान को दानपात्र[69] कहा गया है। अधिकरण कारक के प्रसंग में पाणिनि द्वारा प्रस्तुत संज्ञा तथा संज्ञी की व्यवस्था को यहाँ पलट दिया गया है। इनके अनुसार क्रियाश्रय के अधिकरण को आधार कहते हैं– क्रियाश्रयस्याधिकरणमाधारः (२.४.४३)।

भिक्षुशब्दानुशासन के सूत्रों की संरचना पर जैन वैयाकरणों का प्रभाव अवश्य है लेकिन प्रकरणों की संरचना में यह व्याकरण पाणिनि का अनुगमन करता है। यह इस व्याकरण की बहुत ही महत्त्वपूर्ण विशेषता है। हम देखते हैं कि शाकटायन के बाद से ही सभी जैन वैयाकरणों ने समासविधायक सूत्रों तथा समासान्त सूत्रों को एक साथ रख दिया है। बताया जाता है कि इसी प्रवृत्ति से व्याकरण में प्रक्रिया क्रम का प्रादुर्भाव होता है। परन्तु श्रीभिक्षुशब्दानुशासन में हम आश्चर्यजनक रीति से इस प्रवृत्ति का अनुगमन नहीं देखते हैं। इसमें समास विधायक सूत्रों का पाठ ३.१.१९ से लेकर ३.१.१३३ तक किया गया है, जबकि समासान्त प्रत्यय ८.३.१ से ८.३.११७ तक पूरे पाद में व्याप्त हैं। इस महत्त्वपूर्ण अभिलक्षण को जैन व्याकरणों के इतिहास में एक वृत्त सम्पूर्ति की तरह देखा जा सकता है।

 

                                           औपसंहारिक

उपलब्ध जैन व्याकरण पाणिन्युत्तर काल से सम्बन्ध रखते हैं अतः उनमें पाणिनीय तन्त्र के अन्तर्गत सहस्र वर्षों में विकसित सिद्धान्तों की समृद्धि दिखायी पड़ती है। इन व्याकरणों में पाणिनि की प्रतिभा, कात्यायन के परिवर्धन और महाभाष्य की व्याख्यायें एक साथ विराजमान हैं। इतना ही नहीं, काशिका आदि वृत्तियों में प्राप्त स्पष्टीकरण भी इनके अन्तर्गत सम्मिलित कर दिये गये हैं। साथ ही इन व्याकरणों में पाणिनीय तन्त्र की अपेक्षा लाघव तथा सरलता लाने का भी प्रयास सर्वत्र किया गया है। इनका अन्य महत्त्व भाषा की निरन्तर परिवर्तित होती हुई रूप रचना का सूक्ष्म अवलोकन भी है। जैन वैयाकरणों ने भाषा के पाणिन्युत्तर काल में बदले रूप को, जिनका अनुभव पाणिनि के व्याख्याकार भी कर रहे थे, सूत्रों में बाँधकर प्रामाणिकता प्रदान की। इस प्रकार भाषा–व्याकृति की युगों से अविच्छिन्न भारतीय परम्परा में निरन्तरता को बनाये रखने का श्रेय जैन वैयाकरणों को है। इससे संस्कृत भाषा की बदलती विभिन्न अवस्थाओं के लिये भाषावैज्ञानिक सामग्री उपलब्ध होती है। उनका यह योगदान केवल व्याकरण के लिये ही नहीं अपितु आधुनिक भाषाविज्ञान आदि अनुशासनों के लिये भी महत्त्व रखता है। ध्यातव्य है कि संस्कृत इन युगों में बोलचाल की भाषा तो नहीं रह गयी थी लेकिन उसका शास्त्रीय रूप निरन्तर प्रचलित तथा प्रवाहमान् रहा।

जैन वैयाकरणों पर भारतीय व्याकरण वाङ्मय की धारा को साम्प्रदायिकता की ओर प्रवण करने का आरोप भी लगाया गया है। जैन व्याकरणों के बाद यह प्रवृत्ति भट्टोजि दीक्षित से होते हुए  हरिनामामृत प्रभृति व्याकरणों में उत्थान पर देखी जाती है जो आदि से अन्त तक साम्प्रदायिक रंग में रँगा हुआ है (मीमांसक २००० : ११५)। लेकिन इस प्रवृत्ति को देखने का एक और दृष्टिकोण हो सकता है। प्रत्येक वैयाकरण किसी न किसी भाषिक, सांस्कृतिक अथवा धार्मिक समुदाय से सम्बद्ध होता ही है। उस समुदाय से सम्बद्ध तत्त्व उसके शास्त्रीय प्रतिपादन में स्वभावतः प्राथमिकता पाते हैं। जैन व्याकरण वाङ्मय में भी जैन संस्कृति के अनेक आयामों का दिग्दर्शन कराने वाली पारिभाषिक शब्दराशि सुरक्षित हो सकी है जो अन्यथा असम्भव थी। इस प्रकार भारत की समृद्ध सांस्कृतिक परम्परा के एक महत्त्वपूर्ण भाग–जैन संस्कृति को सुरक्षित रखने के कारण भी इनका महत्त्व अत्यधिक है। इसके साथ ही अपनी इस विशेषता के कारण ये ग्रन्थ तत्कालीन सामाजिक प्रवृत्तियों को जानने के लिये भी महत्त्वपूर्ण स्रोत की तरह उपयुक्त किये जा सकते हैं।

जैन वैयाकरणों ने सरलता की दृष्टि से पाणिनि व्याकरण के समक्ष चुनौती प्रस्तुत कर दी थी। द्वादशभिर्वर्षैर्व्याकरणं श्रूयते तथा कष्टं व्याकरणम् की तुलना में समस्तं वाङ्मयं वेत्ति वर्षेणैकेन निश्चयात्[70] के लुभावने वायदों ने निश्चित रूप से पाणिनीय परम्परा की धारा को दूसरी दिशा दी और प्रक्रिया क्रम के उदय के द्वारा सूत्र क्रम के सरलीकरण हेतु प्रयास होने लगे। बताया जा चुका है कि शाकटायन द्वारा समास प्रकरण में किया गया प्रयोग प्रक्रिया पद्धति का बीज बना जो हेमचन्द्र के व्याकरण में पल्लवित हुआ। स्पष्ट है कि जैन वैयाकरणों ने पारम्परिक व्याकरण को चुनौती देने के साथ ही उससे निबटने के मार्ग भी प्रस्तुत किये।

जैन व्याकरणों का अध्ययन करते हुए एक वस्तु हमेशा मस्तिष्क में रहनी चाहिये कि ये व्याकरण उस काल में  लिखे गये जब संस्कृत लोकप्रचलन से बाहर हो चुकी थी तथा उसमें लोक की ओर से नवीन परिवर्तन आने बन्द हो गये थे। पाणिनि के बाद कात्यायन तथा पतञ्जलि के मतों में तो फिर भी नवीनतायें ढूँढी जा सकती हैं क्योंकि संस्कृत तब भी लोक में प्रचलित थी। लेकिन जैन व्याकरणों में नितान्त नवीनता खोजना अन्याय्य होगा। इन व्याकरणों में विषयगत मौलिकता की अपेक्षा पद्धतिगत स्पष्टता एवं सरलता की खोज अधिक न्यायसंगत है। और यह अपने आप में बहुत उल्लेखनीय उपलब्धि है जो हमें इन वैयाकरणों में प्रतिपद अनुभूत होती है। वस्तुतः यह जैन विद्वानों का संस्कृत विद्या के प्रति प्रेम और बहुमान ही है जिसके कारण प्राचीन काल से लेकर अर्वाचीन काल तक इस प्रकार के नवीन तथा सर्वाङ्गपूर्ण व्याकरण की रचना हुई तथा अब भी हो पा रही है।

 

 

 

चयनित सन्दर्भ

मूल जैनव्याकरण ग्रन्थ

(सं॰) विन्ध्येश्वरी प्रसाद (१९१०) जैनेन्द्रव्याकरणम् महावृत्तिसहितम्. मास्टरखेलाड़ीलालसंकटाप्रसाद संस्कृतपुस्तकालय, वाराणसी.

(सं॰) शम्भुनाथ त्रिपाठी (तृ॰ सं॰ २०१६) ) जैनेन्द्रव्याकरणम् महावृत्तिसहितम्. भारतीय ज्ञानपीठ, दिल्ली.

(सं॰) दोशी, बेचरदास जीवराज(१९६७) आचार्यमलयगिरिविरचितं शब्दानुशासनम् स्वोपज्ञवृत्तियुतम्. लालभाई दलपतभाई भारतीयसंस्कृति विद्यामन्दिर, अहमदावाद९।

श्रीसिद्धहेमचन्द्रशब्दानुशासनबृहद्वृत्त्यवचूर्णि (१९४८) अमरचन्द्र.श्रेष्ठि दे॰ ला॰ जैनपुस्तकोद्धारागारः, सूरत।

(सं॰)जम्बूविजय,मुनि (१९९४) श्रीसिद्धहेमचन्द्रशब्दानुशासनम्. श्रीहेमचन्द्राचार्य जैनज्ञानमन्दिर, पाटण, उत्तर गुजरात।

(अनु॰,व्या॰) नन्दिघोषविजय (१९९६).हेमहंसगणिसंगृहीत न्यायसंग्रह. कलिकालसर्वज्ञ श्रीहेमचन्द्राचार्य नवम जन्म शताब्दी स्मृति संस्कार शिक्षण निधि, अहमदाबाद।

शाकटायनं व्याकरण (२००४) अभयचन्द्रसूरिप्रणीतप्रक्रियासंग्रहसहितम्. संजय प्रकाशन, नई दिल्ली।

(सं॰) कंसार, डा̆॰ न॰ म॰(२००५).श्रीबुद्धिसागरसूरिप्रोक्तं पञ्चग्रन्थी व्याकरणम् (स्वोपज्ञवृत्तिसमेतम्). भोगीलाल लहेरचन्द भारतीय संस्कृति संस्थान, दिल्ली।

अन्य मूल ग्रन्थ–

(सं॰)भार्गवशास्त्री (पुनः॰१९८८ ई॰). महर्षिपतञ्जलिविरचितं महाभाष्यं प्रदीपोद्योतसहितम्. चौखम्बा संस्कृत प्रतिष्ठान, दिल्ली।

(सं॰) जिनविजय मुनि (१९४०ई॰).  श्रीप्रभाचन्द्राचार्यविरचित प्रभावकचरित. संचालक, सिंघी जैन ग्रन्थमाला, अहमदाबाद–कलकत्ता।

(सं॰) द्विवेदी एवं मोकाटे (१९९१) भट्टोजीदीक्षितप्रणीतः शब्दकौस्तुभः द्वितीयो भागः. चौखम्बा संस्कृत सिरीज़, वाराणसी

अध्ययन–

शास्त्री, नेमिचन्द्र (१९६३). आचार्य हेमचन्द्र और उनका शब्दानुशासन–एक अध्ययन. चौखम्बा विद्याभवन, वाराणसी–१

शाह, पं॰ अम्बालाल प्रे॰ .(१९६९). जैन साहित्य का बृहद् इतिहास भाग–५. पार्श्वनाथ विद्याश्रम शोध संस्थान, जैनाश्रम, हिन्दू युनिवर्सिटी, वाराणसी–५।

दूलहराज, मुनि इत्यादि.(१९९३).संस्कृत प्राकृत जैन व्याकरण और कोश की परम्परा. आचार्य श्री मघवा निर्वाण शताब्दी महोत्सव व्यवस्था समिति, सरदारशहर, राजस्थान।

मीमांसक, युधिष्ठिर.( पुन॰–१९९४ ई॰). संस्कृत व्याकरण शास्त्र का इतिहास भाग–१. रामलाल कपूर ट्रस्ट, बहालगढ़, सोनीपत, हरयाणा।

मीमांसक, युधिष्ठिर. (पुन॰–२००० ई॰). संस्कृत व्याकरण शास्त्र का इतिहास भाग–२ एवं ३. रामलाल कपूर ट्रस्ट, बहालगढ़, सोनीपत, हरयाणा।

प्रभा कुमारी. (१९९०). जैनाचार्यों का संस्कृत व्याकरण को योगदान. निर्माण प्रकाशन, शाहदरा दिल्ली।

Sharma, Dipti (1990). Hemchandra’s Concept of Karaka. A paper contributed to the Volume ‘Haima-Vanmaya-Vimarsha’ ed. Tapaswi Nandi and Rajendra Nanavati.Gujrata Sahitya Akademi.

Dundas, Paul (1996). Jain Attitude towards the Sanskrit Language (A Chapter included in the Book-“Ideology and Status of Sanskrit” ed. By Jan E.M. Houben). E.J. Brill, Leiden, The Netherlands.

Saini, R.S. (1999).Post Paniniyan Systems of Sanskrit Grammar. Parimal Publications, Delhi.

 

[1] पाणिनीयं महत् सुविहितम् (महाभाष्य–४.३.६६)।

[2] देखें महाभाष्य का आवर्ती वचन–“सिध्यत्येवं अपाणिनीयं तु भवति”।

[3] परिभाषा संख्या–१

[4]शेषं निःशेषकर्तारम् (हेमचन्द्राचार्य)

[5] रक्षार्थं वेदानामध्येयं व्याकरणम्। (पस्पशाह्निक)

[6] पृषोदरादीनि यथोपदिष्टम्। ७.३.१०९

  1. 7. शिष्टार्थपरिज्ञानाय अष्टाध्यायी। पृषोदरादीनि यथोपदिष्टम् (अष्टा॰ ७.३.१०९ ) पर महाभाष्य।

[8] १. “इस (अष्टाध्यायी) में १००० श्लोक हैं। यह पाणिनि की रचना है जो प्राचीन काल में बड़ा भारी विद्वान् था……आज कल के भारतवासियों

का प्रायः इसमें विश्वास है। बच्चे ८ वर्ष की आयु में इस (पाणिनि) सूत्रपाठ को सीखना प्रारम्भ करते हैं और ८ मास में इसे कण्ठस्थ करते हैं ”

(इत्सिंग की भारत यात्रा पृ॰ २६४, उद्धृत– अष्टाध्यायी प्रथमावृत्ति पृ॰ २२)

२.देखें काशिका का उदाहरण – आकुमारं यशः पाणिनेः। (आङ्मर्यादाभिविध्योः २.१.१३)

[9]“Astadhyayi was written for people who largely spoke Sanskrit as the first language, the (Hemachandra’s) Shabdanushasana was aim of a readership that would acquire Sanskrit as a second language. (Sharma-24)”

[10] प्रभाकुमारी पृ॰ २९०

[11]यशो मम तव ख्यातिः पुण्यं च मुनिनायक। विश्वलोकोपकाराय कुरु व्याकरणं नवम्॥ (प्रभावकचरित २२–८४)

[12] व्याकरणशास्त्र अत्यन्त कठिन है।

[13] व्याकरण का रोग मृत्यु के साथ ही समाप्त होता है।

[14]प्रशस्ति श्लोक२, महावृत्ति पृ॰४१९

[15]देखें काशिका– समासग्रहणस्य नियमार्थत्वात् वाक्यस्य अर्थवतः संज्ञा न भवति। (तत्रैव)

[16] विशेष अध्ययन–“हैम व्याकरण में पाणिनीय प्रत्याहारों की अन्यथासिद्धि”– कु॰ ऋतिका (संस्कृत विभाग, दिल्ली वि.वि. में

प्रस्तुत लघुशोध प्रबन्ध)

[17]वासुदेव शरण अग्रवाल, जैनेन्द्रमहावृत्ति (प्रस्तावना, पृ॰ १२)

[18]देखिये– अथ शब्दानुशासनम् पर भाष्य– केषां शब्दानां? लौकिकानां वैदिकानाम् च। (पस्पशाह्निक, पृ॰ ९–१०)

[19]देखिये – “केषां शब्दानां? लौकिकानां वैदिकानां च” के भाष्य पर कैयट– वैदिकानामपि लौकिकत्वे प्राधान्यख्यापनाय पृथगुपादानम्। यथा ब्राह्मणा आयाता वसिष्ठोऽप्यायात इति वसिष्ठस्य। तेषां प्राधान्यं यत्नेनापभ्रंशपरिहारात्। (प्रदीप, पृ॰ १०)

[20]अनुमान किया जाता है कि चान्द्र व्याकरण में भी वैदिक सूत्र थे जो नष्ट हो गये। (देखिये मीमांसक – चान्द्र व्याकरण का प्रकरण)

[21] सिद्धान्तकौमुद्यां तत्रभवता दीक्षितमहाभागेन वेदसम्बन्धीनि २६३ सूत्राण्यष्टाध्यायीतः समुच्चित्य पृथक् कृतानि।… अत्र नास्ति

कश्चन क्रमः न च प्रक्रिया। इमानि वैदिकसूत्राणि वृक्षात् छिन्नाः शाखा इव मूलाद् विच्छेद्य पृष्ठभागे तथा विक्षिप्तानि यत्र

नास्ति शब्दानां सिद्धये किंचित् प्रक्रिया विज्ञानं, न चास्ति तत्राष्टाध्याय्या अनुवृत्तिविज्ञानम्॥(पुष्पा दीक्षित, वैदिकशब्दानाम्

सिद्ध्युपायः, पृ॰ २)

[22] अथवा किं न एतेन इदं नित्यमिदमनित्यमिति। यन्नित्यं तं पदार्थं मत्वैष विग्रहः क्रियते। (सिद्धे शब्दार्थसम्बन्धे वार्तिकभाष्य, पस्पशाह्निक)।

[23] भिक्षुशब्दानुशासन की बृहद्वृत्ति में तो व्याकरण में इस दृष्टिकोण के उपयोग से शब्दज्ञान के अतिरिक्त मोक्ष प्राप्ति को भी सम्भावित किया गया

है–  ततः अनेकान्तादेव विविक्तशब्दप्रयोगात् सिद्धि–सम्यग्ज्ञानं, तद्वारेण निश्रेयसं भवेदिति। (सिद्धिरनेकान्तात् १.१.२)

[24] सिद्धहैम॰ १.१.२, स्याद्वादात् अनेकान्तवादाद् प्रकृतानां शब्दानां सिद्धिर्निष्पत्तिर्ज्ञप्तिश्च वेदिव्या। (लघुवृत्ति, पृ॰१)

[25]पाणिनीय तन्त्र के व्याख्याओं ने भी इस शर्त को शिथिल करने के प्रयत्न किये हैं। देखिये इसी सूत्र (४.१.३३) पर महाभाष्य– यज्ञसंयोग इत्युच्यते, तत्रेदं न सिध्यति–इयमस्य पत्नी….एवमपि तुषजकस्य पत्नी न सिध्यति। उपमानात् सिद्धम्। (पृ॰५८)

[26]“…There can be hardly an ungrateful grammarian like Shakatayana in the whole Sanskrit Grammatical Literature.” (Saini:110)

[27] प्रभा कुमारी पृ॰ १८०–८१

[28] अनुदात्तौ सुप्पितौ (अष्टा॰–३.१.३)।

[29] ध्यातव्य है कि पाणिनि ने ऐसे प्रत्ययों को तसिलादिष्वाकृत्वसुचः (अष्टा॰६.३.३५) सूत्र द्वारा परिगणित कर दिया है।

[30] देखिए सूत्र १.१.१३ पर जैनेन्द्रमहावृत्ति, पृ॰५– न च लोकप्रतीतेषु शब्देषु विभागेनोदात्तादयः प्रतीयन्ते केवलं शास्त्रे व्यवहारार्थं संज्ञायन्ते।

[31] धन्वन्तरिक्षपणकामरसिंहशंकुवेतालभट्टघटखर्परकालिदासाः।

ख्यातो वराहमिहिरो नृपतेः सभायां रत्नानि वै वररुचिर्नव विक्रमस्य॥, इस श्लोक के द्वारा यह बात संभावित की जाती है।

[32]इन्द्रश्चन्द्रः काशकृत्स्नापिशली शाकटायनः। पाणिन्यमरजैनेन्द्रा जयन्त्यष्टादिशाब्दिकाः॥ (बोपदेव), व्याकरणों का आठ की संख्या से परिगणन प्राचीन परम्परा है। बोपदेव से भी पहले १२ सदी में विद्यमान भास्कर की लीलावती का श्लोक दर्शनीय है–

अष्टौ व्याकरणानि षट् च भिषजां व्याचष्ट ताः संहिताः

षट् तर्कान् गणितानि पञ्च चतुरो वेदानधीते स्म यः।

रत्नानां त्रितयं द्वयं च बुबुधे मीमांसयोरन्तरं

सद्ब्रह्मैकमगाधबोधमहिमा सोऽस्याः कविर्भास्करः॥(लीलावती, पृ॰१२०,Thacker, Spink and Co.Calcutta, 1893)

नैषधकार श्रीहर्ष ने कहा है कि नैषध को वही समझ सकता है जिसने अष्टौ व्याकरणानि का अध्ययन किया हो– अष्टौ व्याकरणानि तर्कनिवहः इत्यादि।

हेमचन्द्र के व्याकरण की बृहद्वृत्त्यवचूर्णि में एक अन्य सूची इस प्रकार दी गयी है–

ब्राह्ममैशानमैन्द्रं च प्राजापत्यं बृहस्पतिम्।

त्वाष्टुमापिशलं चेति पाणिनीयमथाष्टमम्॥(पृ॰ ३)

वाल्मीकि रामायण में नव व्याकरणों की चर्चा प्राप्त होती है–

सर्वासु विद्यासु तपोविधाने प्रस्पर्धतेऽयं हि गुरुं सुराणाम्।

सोऽयं नवव्याकरणार्थवेत्ता ब्रह्मा भविष्यत्यपि ते प्रसादात् ॥ (उत्तरकाण्ड ३६–४७)

[33] प्रमाणमकलङ्कीयं पूज्यपादीयलक्षणम्।

धानञ्जयं च सत्काव्यं रत्नत्रयमुदाहृतम्॥ (जैनेन्द्रमहावृत्ति प्रशस्ति, पृ॰४१८)

[34]जैनेन्द्रव्याकरण के कर्तृत्व के सम्बन्ध में विस्तार से देखें (Saini:78-82)

[35] यदिन्द्राय जिनेन्द्रेण कौमारेऽपि निरूपितम्। ‍ऐन्द्रं जैनेन्द्रमिति तत्प्राहुः शब्दानुशासनम्॥ (उद्धृत जै॰ २०१६, प्रस्तावना पृ॰ १७)

[36]स्वाभाविकत्वादभिधानस्यैकशेषस्यानारम्भः १.१.९७ (मिश्र : ५२)

[37]अष्टाध्यायी १–१– तदशिष्यं संज्ञाप्रमाणत्वात्।

[38]सम्पूर्ण सूची के लिये देखें–Saini:85-88

[39]महाभाष्य १–४, कारकः इति महती सञ्ज्ञा क्रियते। सञ्ज्ञा च नाम यतो न लघीयः। कुत एतत्। लघ्वर्थं हि सञ्ज्ञाकरणम्। तत्र महत्याः सञ्ज्ञायाः करणे एतत् प्रयोजनम् अन्वर्थसञ्ज्ञा यथा विज्ञायेत।

[40]आचार्य शान्तनव पाणिनि से पूर्ववर्ती आचार्य हैं। इन्होंने प्रातिदपदिकस्वरों को समझाने के लिये फिट्सूत्रों का प्रणयन किया है। उन्होंने प्रातिपदिक के लिये फिट् तथा नपुंसक के लिये नप् संज्ञा का प्रयोग किया है। सूत्र क्रमशः हैं– फिषोऽन्त उदात्तः १.१, नब्विषयास्यानिसन्तस्य २.२६।

[41] नपा निर्देशः किमर्थः। वक्ष्यमाणाभिः संज्ञाभिर्बाधा यथा स्यात्। (जैनेन्द्रमहावृत्ति १.२.११०)

[42] यत्र नपः समावेश इष्यते तत्र चशब्दोपादानमस्ति। यथा यश्चैकाश्रये(१.३.४४)। (जैनेन्द्रमहावृत्ति, १.२.९१, पृ॰३४)

[43] सूत्र को छन्दस् अर्थात् वेद की तरह मान लेने से बहुलं छन्दसि (अष्टा॰२.४.३९) द्वारा सभी प्रकार के व्यत्यय स्वाभाविक मान लिए जाते हैं।

[44] सूत्रेऽस्मिन् जैनेन्द्रेषु यो विधिः सुपि च विधिः सुपि च विधिरिष्टो भवति। (जैनेन्द्रमहावृत्ति पृ॰ ३७५)

[45] देखिए महाभाष्य १.४.२५ से १.४.३१ तक।

[46] ध्यातव्य है कि पतंजल्युत्तर पाणिनीय वैयाकरणों ने पतंजलि के मत का अनुवाद करते हुए भी उस बहुत श्रद्धा नहीं की है।

देखिए शब्दकौस्तुभ(पृ॰ १२०)– अत्रेदं वक्तव्यं निवृत्तिनिःसरणादिधात्वन्तरार्थविशिष्टे स्वार्थे वृत्तिमाश्रित्य यथाकथंचिदुक्तप्रयोगाणां

समर्थनेऽपि मुख्यार्थपुरस्कारेण षष्ठीप्रयोगो दुर्वारः। नटस्य शृणोति इतिवत्। न ह्युपाध्यायनटयोः क्रियानुकूलव्यापारांशे विशेषो

वक्तुं शक्यः। अनभिधानब्रह्मास्त्रमाश्रित्य प्रत्याख्यानं तु नातीव मनोरमम्।

[47]१.  उदाहरण के लिए प्रस्तुत कारिका में प्रत्यय को त्य से परिवर्तित कर दिया है–

मत्वर्थाच्छैशिषाकाच्चापि मत्वर्थः शैषिकस्तथा।

सरूपस्त्यविधिर्नेष्टः सन्नन्तान्न सनिष्यते॥ (जै॰ ४.१.२३ पर महावृत्ति)

  • धातु की जगह धु–

वर्णागमो वर्णविपर्ययश्च द्वौ चापरौ वर्णविकारनाशौ।

धूनां तदर्थातिशयेन योगास्तदुच्यते वर्णविधौ निरुक्तम्॥ (जै॰ ३.३.१४ पर महावृत्ति)

  • यङ्लुक् की जगह यङ्ङुप्–

शपा तिपाऽनुबन्धेन निर्दिष्टं यद्गणेन च।

यत्रैकाज्ग्रहणं किञ्चित् पञ्चैतानि न यङ्ङुपि॥ (जै॰ ४.४.३७ पर महावृत्ति)

[48]डा̆॰ गोकुलचन्द जैन– संस्कृत के जैन वैयाकरण एक मूल्याङ्कन, पृ॰५५ (दूलहराज:१९९३) में सम्मिलित पत्र।

[49]वासुदेव शरण अग्रवाल, जैनेन्द्र महावृत्ति (भूमिका पृ॰१२)

[50] प्रभा कुमारी पृ॰ १०८

[51] पाणिनीय व्याकरण में इन दोनों प्रकरणों को अलग रखने का रहस्य यह है कि दोनों प्रकरणों की प्रकृति अलग अलग है। कारक प्रकरण संज्ञा प्रकरण है जबकि विभक्ति प्रकरण विधि प्रकरण।

[52] इष्टिर्नेष्टा न वक्तव्यं वक्तव्यं सूत्रतः पृथक्।संख्यानं नोपसंख्यानं यस्य शब्दानुशासने॥

इन्द्रचन्द्रादिभिः शाब्दैर्यदुक्तं शब्दलक्षणम्।तदिहास्ति समस्तं च यन्नेहास्ति न तत् क्वचित्॥

 

[53]कन्सार–२००५

[54]कन्सार–२००५

[55](सं॰) जिनविजय : 73-109

[56]System of Sanskrit Grammar, P. 76

[57] बृहट्टिप्पणिका नामक प्राचीन पुस्तक सूची में भी इस व्याकरण को मुष्टव्याकरण कहा गया है। (दोशी १९६७: Intro.p.९)

[58] मलयगिरि ने हेमचन्द्र का नाम बहुत सम्मान के साथ लिया है– तथा चाहुः गुरवः। (कृदन्तपाद १.२३)

[59]  दोशी १९६७: Intro.p.९

[60] कातन्त्र व्याकरण को भी पादों में विभाजित किया गया है।

[61] लोकाद् वर्णक्रमः (मलय॰ १.२)

[62] क्रमशः उदाहरण हैं–  रो रे लुग् दीर्घश्चादिदुतः (सिद्धहैम॰ १.३.४१), एदोतः पदान्तेऽस्य लुक् (सिद्धहैम॰१.२.२७)। एच् को हेमचन्द्र ने सन्ध्यक्षर

कहा है (सिद्धहैम॰ १.१.८)।

[63] पाणिनि तथा जैन वैयाकरणों की उपर्युक्त प्रक्रिया में बड़ा अन्तर यह है कि इन्होंने पाणिनि द्वारा अनेक प्रकरणों में रखे गये  युष्मद्–अस्मद् तथा

उसके आदेशों से सम्बन्धित सूत्रों को एक ही जगह रखकर सुकरता का आपादन किया है। पाणिनि द्वारा  अलग अलग प्रकरणों में रखे जाने का

कारण कार्यों की भिन्न भिन्न प्रकृति का होना है। उदाहरण के लिए वस् नस् इत्यादि आदेश आठवें अध्याय में पदस्य (८.१.१६) और पदात्

(८.१.१७) के अधिकार में इसलिए रखा गया है ताकि अनुदात्तं सर्वमपादादौ (८.१.१८) के अन्तर्गत आ जाने से इन आदेशों को सर्वानुदात्त हो

जाये। जैन वैयाकरणों को स्वरों का अनुशासन नहीं करना था, इसलिए उन्हें इस सूक्ष्मता में जाने की आवश्यकता नहीं थी।

[64] यह विवरण आचार्य तुलसी की शिष्या साध्वी कनकप्रभा के द्वारा लिखित विवरण (तेरापन्थी जैन व्याकरण साहित्य) के आधार पर है। इस

व्याकरण के आधारभूत ग्रन्थ विशालशब्दानुशासन के बारे में और विवरण अन्वेषणीय है।

[65] तदानीमेव मीठिया इत्यपराभिधेन मुनिचम्पालालेन भाद्रातः विशालकिर्तिगणिविरचितस्य अष्टाध्यायात्मकस्य शब्दानुशासनस्य हस्तादर्शः

उपलब्धः, आचार्यचरणेषु उपढौकितश्च। (श्रीभिक्षुशब्दानुशासनम्, प्रस्तुतिः–युवाचार्यः महाप्रज्ञः)।

[66] आचार्यतुलसी–आशीर्वचनम्।

[67] अइउऋलृ–एऐओऔ–हयवरल–ञमङणनम–झभघढध–जडदगब–खफछढथ–चटतकप–शषसः। (१.१.४)

[68] साधकतमं साधनम् (२.४.२७),

[69] कर्मक्रियाभिप्रेयो दानपात्रम् (२.४.३२)

[70]यक्षवर्मा

प्रेमवैदग्धी

 

प्रेमवैदग्धी

स्तिमिता तनुकप्रसरा स्वल्परवा नववधूरिव सलज्जा।
अकथं कथमपि रसतां क्वापि स्मायाति याऽतिचाटुशतैः॥

सैव तु सम्प्रति मां प्रति कविता नवरसविशेषसन्नद्धा।
मधुरवर्णातिरुचिरा सुगुणा प्रचुरोज्ज्वलाभरणा॥

अनुदिनमनुगुणरीतिं ध्वनयन्ती छन्दसाऽप्यशेषेण।
प्रोषितमुदीक्षमाणा भावं धत्ते सुमध्यानाम्॥

अनुधावामि स्म पुरा कविताकान्तां विटप्रभो मुग्धाम्।
मह्यं प्रगल्भते सा प्रौढा प्रेम्णोऽधुना मधुना ॥

प्रेमाग्नेर्वैदग्धीमवलोकय योऽप्यदग्धदहनेन।
उभयमपि पक्षमच्छैरनुरागैरुज्ज्वलं तनुते॥

24958881_10210957348791335_6764747256460146442_o

 

A Sanskrit poem of mine published in Sanskrit-ShreeH. Sharing with its Hindi translation-

प्रेम की दक्षता

कविता, पहले नयी–नवेली दुल्हन की तरह थी
सिमटी सी, ठिठकी सी, लजीली जिसकी ध्वनि कभी कभी सुनाई दे जाती थी।
जो हज़ार मिन्नतों के बाद कभी, कहीं और किसी तरह रस्यता को प्राप्त हो पाती थी।
वही कविता वनिता अब मेरे लिए नवों रसों (अथवा ताज़ा रसों) को लेकर तैयार,
मधुर वर्णों के नाते अत्यन्त रुचिकर, सद्गुणों का प्रदर्शन करती हुई
पर्याप्त उज्ज्वल अलंकारों से सजकर, मनोऽनुकूल रीतियों से ध्वनित होती हुई
सारे छन्दों की लोच अपने अन्दर समोए हुए
प्रतिदिन मध्यमा (या, सुन्दर मध्य भाग वाली) नायिका की तरह
उत्कण्ठा में भर कर मेरी राह तकती रहती है
जैसे प्रोषितपतिका अपने परदेसी पति का इन्तज़ार करती हो
जिस मुग्धा कविता कामिनी के पीछे पहले मैं एक रसिक लम्पट की तरह भागा करता था
प्रेम की मदिरा के प्रभाव से अब वही मुझसे प्रौढा की तरह प्रगल्भताएँ करती है
प्रेम की आग की कुशलता देखो, जो अदग्ध दहन के द्वारा
दोनों पक्षों को अनुराग से प्रदीप्त करके उज्ज्वल बना देती है।

विगत सप्ताह महाराष्ट्र केसरी लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक के बहु–आयामी व्यक्तित्व पर सोमैया भारतीय संस्कृति विद्यापीठ द्वारा आयोजित राष्ट्रीय सम्मेलन (३–५ दिसं॰) में “Tilak’s view on the Antiquity of the Vedas” विषय पर मैंने एक शोध पत्र प्रस्तुत किया। तिलक महाराज के आश्चर्यजनक रीति से विविधमुखी व्यक्तित्व पर अनेक विशेषज्ञ विद्वानों ने अपने शोधपूर्ण वक्तव्य दिये।

RUMI by a HINDI

 

 

Two ghazals of Rumi with their Hindi translation were presented in the department of psychology in Gorakhpur University on 22.11.17. Video by- Abhijit Mishra.

नज़्दे कसी[1]

مولوی » دیوان شمس » غزلیات

دلا نزد کسی بنشین که او از دل خبر دارد
به زیر آن درختی رو که او گل‌های تر دارد
در این بازار عطاران مرو هر سو چو بی‌کاران
به دکان کسی بنشین که در دکان شکر دارد
ترازو گر نداری پس تو را زو رهزند هر کس
یکی قلبی بیاراید تو پنداری که زر دارد
تو را بر در نشاند او به طراری که می‌آید
تو منشین منتظر بر در که آن خانه دو در دارد
به هر دیگی که می‌جوشد میاور کاسه و منشین
که هر دیگی که می‌جوشد درون چیزی دگر دارد
نه هر کلکی شکر دارد نه هر زیری زبر دارد
نه هر چشمی نظر دارد نه هر بحری گهر دارد
بنال ای بلبل دستان ازیرا ناله مستان
میان صخره و خارا اثر دارد اثر دارد
بنه سر گر نمی‌گنجی که اندر چشمه سوزن
اگر رشته نمی‌گنجد از آن باشد که سر دارد
چراغست این دل بیدار به زیر دامنش می‌دار
از این باد و هوا بگذر هوایش شور و شر دارد
چو تو از باد بگذشتی مقیم چشمه‌ای گشتی
حریف همدمی گشتی که آبی بر جگر دارد
چو آبت بر جگر باشد درخت سبز را مانی
که میوه نو دهد دایم درون دل سفر دارد

१. दिला नज़्दे कसी बेन्शीन् कि ऊ अज़ दिल ख़बर दारद
बे नज़्दे आन् दरख़्ती रौ कि ऊ गुल–हा ए तर दारद
२. दर् ईन बाज़ारे अत्तारान् मरौ हर सू चु बीकारान्
बे दुक्काने कसी बेन्शीन् कि दर् दुक्कान् शकर दारद
३. तराज़ू गर न दारी पस तुरा ज़ू रह ज़नद हर कस
यकी क़ल्बी बे–आरायद तू पिन्दारी कि ज़र दारद
4. तुरा बर दर निशानद ऊ ब तर्रारी कि मी आयद
तु मन्शीन मुन्तज़िर बर दर कि आन् ख़ाने दो दर दारद
5. बे हर दीगी कि मी जूशद म–यावर कासे ओ म–न्शीन्
कि हर दीगी कि मी जूशद दरून् चीज़ी दिगर दारद
6. न हर किल्की शकर दारद न हर ज़ीरी ज़बर दारद
न हर चश्मी नज़र दारद न हर बह्री गुहर दारद
7. बेनाल ऐ बुलबुले दस्तान्! अज़ीरा नाले ए मस्तान्
मियाने सख़रे ओ ख़ारा असर दारद असर दारद
८..बेनेह सर गर न मी गुंजी कि अन्दर चश्मे ए सूज़न
अगर रिश्ते न मी गुंजद अज़् आन् बाशद कि सर दारद
९. चराग़–स्त ईन् दिले बीदार् बे ज़ीरे दामन–श मी दार
अज़् ईन् बाद् ओ–हवा बुग्ज़र हवाय–श शूर ओ शर दारद
१०.चु तू अज़ बाद बुग्ज़श्ती मुक़ीमे चश्मे ई गश्ती
हरीफ़े हमदमी गश्ती कि आबी बर जिगर दारद
१. चू आब–त बर जिगर बाशद दरख़्ते सब्ज़ रा मानी

कि मीवे नौ दहद दाइम दरूने दिल सफ़र दारद
२१– सत्संगतिः कथय किं न करोति
१. ऐ दिल, तू ऐसे किसी के पास बैठ जिसे दिलों की ख़बर हो।

तू किसी ऐसे पेड़ के पास जा, जिसमें तरो–ताज़ा फूल लगे हों।
२. इन पंसारियों की दुकानों के चारों ओर फ़िज़ूल लोगों की तरह मत भटक।

तू उसकी दुकान पर बैठ जिसकी दुकान में शक्कर हो, मधु हो।
३. अगर तुम्हारे पास (विवेक रूपी) तराज़ू नहीं हुआ तो इस बाज़ार में तुम्हें कोई भी, कभी भी ठग लेगा।

खोटा सिक्का सजा बजा कर, कोई भी तुम्हारे पास ले आयेगा, और तुम्हें लगेगा– कि ये सोना है।
४. तुमको वह चालाकी से दरवाज़े पर बैठा देगा कि “बैठो, मैं अभी आया”।

तुम दरवाज़े पर उसे निहारते मत रह जाना, क्योंकि उसके घर में दो दरवाज़े हैं।
५. हर उबलते हुए कड़ाहे के पास अपनी भीख की कटोरी लेकर न बैठ जाना

क्योंकि हर पकते हुए कड़ाहे में ज़रूरी नहीं कि तुम्हारी मनचाही चीज़ ही पक रही हो।
६. हर गन्ने में शक्कर नहीं होता, हर पस्तियों के साथ उठान नहीं लगी होती।

हर आँख के पास नज़र नहीं होती और हर समन्दर में मोती नहीं हुआ करते।
७. पुकार ‍ऐ सुरीली कोयल पुकार! क्योंकि प्रेम में डूबी हुई पुकार का असर-

पत्थरों पर भी हो जाता है।
८. अगर (प्रेम के राज्य में) तुम्हारा गुज़र नहीं हो पा रहा है तो अपना सर झुका कर प्रवेश करने की कोशिश करो।

क्योंकि अगर धागे के सिर पर गाँठ हुई तो वह सुई की आँख में नहीं घुस पाता।

९. यह जागृत हृदय दिये की तरह होता है। इसे अपने आँचल में छिपाकर रखो।

इच्छाओं की हवा से बच कर निकल जाओ। क्योंकि ये हवाएँ इस हृदय में उपद्रव और ख़राबी पैदा
कर देती हैं।
१० .अगर तुम इस हवा से बच कर निकल गये तो समझो कि जीवन स्रोत के पास तुमने घर बना लिया ।

और फिर उस प्रिय के साथ लग गये जो जिसके हृदय में रस ही रस है।
११.जब तुम्हारा हृदय भी सरस हो जायेगा तो तुम भी उस हरे भरे पेड़ की तरह हो जाओगे–
जो कि हमेशा फल देता है और अपने अन्दर ही अन्दर सफ़र करता रहता है।

[1] छन्द व्यवस्था – । ऽ ऽ ऽ । ऽ ऽ ऽ । ऽ ऽ ऽ । ऽ ऽ ऽ

९३– हिकायती[1]

شنیدم کاشتری گم شد ز کردی در بیابانی بسی اشتر بجست از هر سوی کرد بیابانی
چو اشتر را ندید از غم بخفت اندر کنار ره دلش از حسرت اشتر میان صد پریشانی
در آخر چون درآمد شب بجست از خواب و دل پرغم برآمد گوی مه تابان ز روی چرخ چوگانی
به نور مه بدید اشتر میان راه استاده ز شادی آمدش گریه به سان ابر نیسانی
رخ اندر ماه روشن کرد و گفتا چون دهم شرحت که هم خوبی و نیکویی و هم زیبا و تابانی
خداوندا در این منزل برافروز از کرم نوری که تا گم کرده ی خود را بیابد عقل انسانی
شب قدر است در جانت چرا قدرش نمی‌دانی تو را می‌شورد او هر دم چرا او را نشورانی
تو را دیوانه کرده‌ست او قرار جانت برده‌ست او غم جان تو خورده‌ست او چرا در جانش ننشانی
چو او آب است و تو جویی چرا خود را نمی‌جویی چو او مشک است و تو بویی چرا خود را نیفشانی

१. शुनीदम क्,उश्तुरी गुम शुद ज़ कुर्दी दर बयाबानी
बसी उश्तुर बजुस्त् अज़ हर सुई कुर्दे बयाबानी
२. चू उश्तुर रा न दीद अज़् ग़म बेख़ुफ़्त् अन्दर किनारे रह
दिल–श अज़ हसरते–उश्तुर, मियाने सद परीशानी
३. दर् आख़िर, चून् दर् आमद शब, बेजस्त अज़ ख़ाब् ओ दिल पुर ग़म
बर् आमद गू ए मह् ताबान्, ज़ रू ए चर्ख़े चौगानी
४. बे नूरे मह बेदीद् उश्तुर, मियाने राह इस्तादे
ज़ शादी आमद–श गिरिये बेसाने अब्रे नैसानी
५. रुख़् अन्दर माहे रौशन कर्द् ओ गुफ़्ता–चून् देहम शर्ह–त
कि हम ख़ूबी ओ हम नीकी ओ हम ज़ीबा ओ ताबानी
६.ख़ुदावन्दा! दर् ईन् मंज़िल, बर् अफ़रूज़् अज़ करम नूरी
कि ता गुम कर्दे ए ख़ुद रा बियाबद अक़्ले–इन्सानी
७.शबे क़द्र–स्त दर जान–त चेरा क़द्र–श नमी दानी
तु–रा मी शूरद् ऊ हरदम, चेरा ऊ–रा न शूरानी
८. तु–रा दीवाने कर्दे–स्त् ऊ, क़रारे जान्–त बुर्दे–स्त् ऊ
ग़मे जाने तू ख़ुर्दे–स्त् ऊ, चेरा दर जान्–श न निशानी
९.चू ऊ आब–स्त तू जूई, चेरा ख़ुद रा न मी जूई
चू ऊ मुश्क–स्त् ओ तू बूई, चेरा ख़ुद रा न अफ़्शानी

९३– एक कहानी
१. मैंने सुना है कि एक चरवाहे का ऊँट रेगिस्तान में खो गया था
उस रेगिस्तानी चरवाहे ने अपने ऊँट को चारों ओर खूब खोजा
२. जब उसको ऊँट कहीं नहीं मिला तो बेचारा दुखी होकर रास्ते के किनारे सो गया
ऊँट की चिन्ता में उसका दिल सैकड़ों परेशानियों से घिर गया था
३. अन्ततः, जब रात आयी तो वह दुखी दिल लेकर नींद से उठा
तब तक चौगान के मैदान जैसे आसमान में गेंद की तरह चमकता चाँद निकल आया था
४. चाँद के प्रकाश में उसने देखा कि उसका ऊँट रास्ते के बीच में खड़ा है
ख़ुशी के मारे वह बरसाती बादलों की तरह रो पड़ा
५. उसने अपने चेहरे को चाँद की ओर उठाया और बोला–मैं तुम्हारी प्रशंसा कैसे करूँ
तुम अच्छे भी हो, भले भी हो, सुन्दर भी हो और चमकदार भी हो
६. हे परमेश्वर, हम लोगों पर भी अपनी कृपा की वह रौशनी फैला दो
ताकि, हम मनुष्यों की बुद्धि भी अपना खोया हुआ स्वरूप पा जाए
७. तुम्हारी आत्मा के अन्दर एक उजियारी रात है, तुम उसकी क़ीमत क्यों नहीं समझते?
वह तुम्हें निरन्तर उत्तेजित करती रहती है, तुम उसके संकेतों को क्यों नहीं जान पाते?
८.तुमको उसने दीवाना कर डाला है, तुम्हारे प्राणों का चैन उसने छीन लिया है
तुम्हारे प्राणों के दुखों की चिन्ता है उसको, तुम उसको अपने प्राणों में बिठा क्यों नहीं लेते?
९.अगर तू धारा है तो वह तुम्हारा जल है, तुम अपने आप की खोज क्यों नहीं करते?
अगर वह कस्तूरी तो तुम गन्ध हो, तो तुम अपने आप को फैला क्यों नहीं देते?

[1] छन्द व्यवस्था– । ऽ ऽ ऽ । ऽ ऽ ऽ । ऽ ऽ ऽ । ऽ ऽ ऽ

संस्कृतश्रियः नवे‍ऽङ्के प्रकाशमासादितेयम् कविता। छन्दश्चात्र प्रयुक्तम् वस्तुतः पारसीकस्य परन्तु

तदत्यन्तं साम्यम् उपेन्द्रवज्रया वहति। नीचैः तदीयं विवरणं प्रदत्तम्।

     SKMBT_C45217101813060

 

अनेकजन्मस्वनेकनारीकठोरवक्षोजपीडनेन।

न सम्प्रतीमेऽपि भङ्गुरत्वं गता अहो वासनानखाग्राः॥

रवीन्दुबिम्बोज्ज्वलाननानां सहस्रवर्षाणि चाङ्गनानाम्।

निविष्टदृष्टेर्मुखे मुखे तेऽधुनापि मोहाक्षिणी क्षते नो! ॥

गरिष्ठभोगैर्विदूनकुक्षौ युगानि देहे सुदृष्टहानिः।

तवात्र जिह्वाधुनापि लालारसार्द्रतां याति भोगदृष्टौ॥

प्रतारितो लक्षशः सहस्रप्रकारमाभर्त्सितोऽपि ताभिः।

विहाय मानं प्रयासि पश्चात्पुनः पुनर्नीच कामिनीनाम्॥

 

रसाय कस्मै स्पृहावतस्तेऽधरामृतानां परीक्षणानि।

कमीहसेऽवाप्तुमाप्तकामं प्रमत्तवद् हिण्डसे दिशासु॥

विशिष्टवर्णं कमाप्तुकामः कपोलपालीर्विलोकसेऽलम्।

न वर्तते यस्तवान्तरङ्गे मयूरबर्हप्रभाप्रमोषे॥

सुगन्धमाघ्राय पद्मिनीनां विमुह्य बद्धो द्विरेफकल्पः।

स्वकीयहृत्पद्मसौरभैश्चेदयेऽभविष्यस्तु संस्तुतस्त्वम्॥

प्रघूर्णनं केन सर्गमूले तवाहितं येन बंभ्रमीषि।

निरन्तरं वर्धते गतिस्तेऽनुजन्म भोगाय सा दुरन्ता॥

असौ तृषा केन धुक्षिता ते प्रकृष्यसे तासु तृष्णिकासु।

न तृप्तये नो रताय यासां नु जीवहारीणि चेष्टितानि॥

मनो मनाक् पश्य ते मनोजस्त्वदङ्गजातोऽपि बाधते त्वाम्।

भवन्ति वाच्या ध्रुवं य एव स्वसन्ततीर्नैव शिक्षयन्ते॥

SKMBT_C45217101813070

छन्द

इस पद्य में प्रयुक्त छन्द मूलतः फारसी का है। इसकी गणव्यवस्था है–

मफ़ाइलुन् फ़ाइलुन् फ़ऊलुन् ।

इसे अगर भारतीय छन्दःशास्त्र की दृष्टि से देखें तो गणव्यस्था हो सकती है–

जभान ताराज राजभा गा (।ऽ। ऽऽ। ऽ।ऽ ऽ)

इसका नाम फ़ारसी छन्दःशास्त्र के अनुसार – “मुतक़ारिब मुसम्मन मक़बूज़ असलम मुज़ाइफ़” है

इस छन्द में छठे अक्षर के बाद एक लघु जोड़ देने से यह उपेन्द्रवज्रा में परिवर्तित हो जाता है। इसी प्रकार अगर हम उपेन्द्रवज्रा के छठें (लघु अक्षर) का लोप कर दें तो यह छन्द प्राप्त हो जाता है–

उदाहरण के लिए–

त्वमेव माता पिता त्वमेव (संस्कृत छन्द) –––––– त्वमेव माता पिता त्वमेव (फ़ारसी छन्द)

भारतीय आधुनिक छन्दःशास्त्रियों ने इसे सम्मिलित करने का प्रयास किया है। पुत्तूलाल शुक्ल ने इसका नाम विहंग[2] रखा है तथा इसे संस्कृत वृत्त जलोद्धतगति[3] का मात्रिक संस्करण माना है । प्राचीन संस्कृत साहित्य में इस छन्द का प्रयोग नहीं मिलता। आधुनिक कवियों ने संस्कृत ग़ज़लों में इस छन्द का प्रयोग किया है। तथा इसका नाम नवीन लक्षण ग्रन्थों में यशोदा रखा है[1]। संस्कृत के प्रायः पहले ग़ज़लकार भट्ट मथुरानाथ शास्त्री से एक उदाहरण प्रस्तुत है–

न याहि लावण्यगर्वितानाम् उपान्तदेशं सखे मनो मे ।

अयेऽवधानेन पालयेथा इमं निदेशं सखे मनो मे ॥ (भट्ट मथुरानाथ शास्त्री)

Bhatt_Mathuranath_Shastri

                            (भट्ट मथुरानाथ शास्त्री)

फ़ारसी तथा उर्दू में इस छन्द का सर्वदा वार्णिक रूप ही देखा गया है लेकिन संस्कृत कवियों ने इसके मात्रिक रूप का प्रयोग भी किया है। उदाहरण के लिए आधुनिक कवियों में से जगन्नाथ पाठक तथा रमाकान्त शुक्ल के ग़ज़लों के उदाहरण प्रस्तुत किए जा सकते हैं––

स्थिरे प्रवाहे तरन्ति मन्ये समे किशोराः समे युवानः।

सुपिच्छिले पथि पतन्ति मन्ये समे किशोराः समे युवानः॥ (समे किशोराः समे युवानः: जगन्नाथ पाठक)

jagannath pathak

                                       (स्वर्गीय जगन्नाथ पाठक)

सरस्वतीपादपद्मसेवा यदीयमास्ते परं हि लक्ष्यम्।

बुधाग्रगाणामतन्द्रितानां मदीयकविते कुरुष्व गानम्॥ (मदीयकविते कुरुष्व गानम् : रमाकान्त शुक्ल)

Ramakant Shukla

                     (श्री रमाकान्तशुक्ल काव्यपाठ करते हुए)

ध्यान देने योग्य बात यह है कि प्राचीन फ़ारसी कवियों के यहाँ इस छन्द का प्रयोग देखने को नहीं मिलता। ईरान के कवियों की अपेक्षा भारतीय फ़ारसी कवियों ने इस छन्द का अधिक प्रयोग किया है। बहुत अधिक सम्भावना है कि फ़ारसी कविता के भारतीय सम्प्रदाय (सब्के हिन्दी) से सम्बद्ध कवियों ने इसकी ईजाद उपेन्द्रवज्रा की धुन से की हो। उदाहरण के लिए भारतीय फ़ारसी कवि बेदिल देहलवी ने इस छन्द का प्रयोग निम्नोक्त कविता में किया है–

बेदिल

                       (महाकवि बेदिल की समाधि, बाग़े बेदिल–दिल्ली में)

ज़ही ब शोख़ी बहारे नाज़त शिकस्ता रंगे ग़ुरूरे इम्कान्

दो नर्गिसत क़िब्लागाहे मस्ती दो अब्रुयत सज्दागाहे मस्तान्

सुख़न ज़ लाले तो गौहर् आरा निगह ज चश्मे तो बादा पैमा

सबा ज ज़ुल्फ़े तो रिश्ते बर पा चमन ज़ रूये तो गुल ब दामान्

ब गम्ज़ा सहरी ब नाज़ जादू ब तुर्रा अफ़सून् ब क़द क़यामत

ब ख़त बनफ़्शा ब ज़ुल्फ़ सुम्बुल ब चश्मे नर्गिस ब रुख़ गुलिस्तान्

चमन ब अर्ज़े तो बहारे नाज़त दर् आतशे रंगे गुलफ़रोशी

सहर ज़ गुल करदने अरक़हा ब आलमे आबे सुम्बुलिस्तान्

मताब रूये वफ़ा ज़ बेदिल मशौ ज मजनूने ख़ीश ग़ाफिल

ज दस्तगाहे शहान् चि नुक़सान् ज़ पुर्सिशे हाले बी नवायान्

 

इस ग़ज़ल का इसी छन्द में अनुवाद करने का प्रयत्न मैंने संस्कृत में किया है। यद्यपि बेदिल के भावों की परम गम्भीरता इसमें नहीं आ पायी है। आख़िर बेदिल तो अबुल् मआनी (अर्थ विच्छित्ति के पिता) ठहरे। अनुवाद इस तरह है–

        निःस्वलोकवार्तम्

अहो सलीलं त्वदीयहावो जहार सम्भावनाभिमानम्।

दृशोर्युगं ते मदस्य भूमिर् भ्रुवोर्युगं तेऽसिलौहशालम्॥

रदच्छदाद् वाक् सुमौक्तिकश्रीर् दृशोः कटाक्षाश्च मत्तमत्ताः।

तवालकैर् बद्धपात् समीरः सुमं च वाट्यां तवाननोत्थम्॥

दृशेन्द्रजालं तथैव भ्रूर्भ्यां च कार्मणं यातु केशपाशैः ।

मुखेन वाटी शशी कपोलैर् विभाति सा चक्षुषा सरोजम्॥

मुखेन ते दर्पणं सुवाटी निशा तव स्कन्ध एष केशैः ।

वचोऽमृतैस्ते गृहं द्युलोको विचित्रितं ब्रह्मणो विधानम्॥

दयादृशं मा विदूरयास्माद् उपेक्ष्यतां नो निजानुरागी।

नृपस्य हानिर्न जायते यत् पिपृच्छिषेन् निःस्वलोकवार्तम्॥

 

 

 

[1]जगौ यशोदा (छन्दःप्रभाकर–पृष्ठ १२०)

[2]आधुनिक हिन्दी में छन्दयोजना पृ॰ २६७

[3]जसौ जसयुतौ जलोद्धतगतिः – वाग्वल्लभ पृ॰१८७

हलचल

डॉ. बलराम शुक्ल प्रताप नारायण युवा साहित्यकार सम्मान से सम्मानित

  • काव्य डेस्क, नई दिल्ली (अमर उजाला)

साहित्यकार डॉ. बलराम शुक्ल को प्रतिष्ठित भाऊराव देवरस सेवा न्यास ने वर्ष 2017 के पंडित प्रताप नारायण युवा साहित्यकार सम्मान से नवाजा है। संस्कृत भाषा और साहित्य में मौलिक रचनात्मकता के लिए यह सम्मान विधानसभाध्यक्ष हृदयनारायण दीक्षित ने उत्तर-प्रदेश हिंदी संस्थान लखनऊ में सोमवार को आयोजित कार्यक्रम में प्रदान किया।

राप्तीनगर के रहने वाले डॉ. शुक्ल मूल रूप से महराजगंज के भिटौली बाजार कस्बे के समीप सोहरौना राजा गांव के रहने वाले हैं। इनकी प्राथमिक शिक्षा यहीं से हुई है। पिता रामचंद्र शुक्ल जूनियर हाई स्कूल महराजगंज के अवकाश प्राप्त शिक्षक हैं। सम्मानित होने की खबर को सुनकर उनके आवास पर गुरुजनों, शुभचिंतकों के बधाई देने का तांता लगा रहा।

बचपन से ही मेधावी डॉ. शुक्ल ने गोरखपुर यूनिवर्सिटी से स्नातक करने के बाद दिल्ली यूनिवर्सिटी से संस्कृत और फारसी साहित्य में परास्नातक किया। दोनों विषयों में यूनिवर्सिटी टॉप करने पर डॉ. सीडी देशमुख पुरस्कार प्राप्त किया। डॉ. शुक्ल संस्कृत तथा फारसी दोनों भाषाओं के कवि हैं। इन्होंने ईरान के विश्व कविता समारोह में भारत का प्रतिनिधित्व किया है। विविध सांस्कृतिक प्रसंगों में वे आठ बार ईरान की आमंत्रित किए गए हैं।

IMG-20171004-WA0003